Categories
Yojana News

इन राज्य के युवाओं को 4 साल सेना में रहने के बाद मिलेगी नौकरी,3 महीने में भर्ती सुरु होने वाली है अग्निपथ योजना

कब सुरु होगी अग्निपथ योजना | agneepath yojana bharti kab suru hogi | किन किन को लाभ मिलेगा अग्निपथ योजना में | agneepath yojana online registration karna hai |

Agneepath Yojana- केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई अग्निपथ योजना को देश की तीनों सेनाओं के प्रमुख ने भी ऐतिहासिक कदम बताया है उन्होंने कहा है कि इस योजना के तहत युवाओं को भारतीय सेना में नौकरी करने का मौका मिलेगा युवाओं को सेना से संबंधित अनेक प्रकार की नई-नई जानकारियां सीखने को मिलेगी 14 जून 2022 को इस योजना की घोषणा की गई है तथा 3 महीने के अंदर अंदर अग्निपथ योजना Agneepath Yojana की शुरुआत कर दी जाएगी ताकि युवाओं को भारतीय सेनाओं में नौकरी करने का मौका प्राप्त हो सके जो युवा देश की सेवा सेना में रहकर करना चाहते हैं

वह अग्निपथ योजना Agneepath Yojana से जुड़ कर 4 वर्ष के लिए भारतीय सेना में अपनी सेवा दे सकते हैं 4 वर्ष के बाद जिन युवाओं को सेवानिवृत्त किया जाएगा उन्हें कुछ राज्यों में नौकरी करने का फिर से भी मौका दिया जाएगा चाहे पुलिस की सेवा हो या फिर अन्य कुछ राज्य के मुख्यमंत्रियों ने केंद्र सरकार की इस योजना की सराहना भी की है आइए जानते हैं इस योजना के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी

अग्नीपथ योजना Agneepath Yojana-

अग्नीपथ योजना की शुरुआत केंद्र सरकार की तरफ से की गई है इस योजना Agneepath Yojana का शुभारंभ देश के तत्कालीन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जी की ओर से की गई है जब उन्होंने इस योजना की घोषणा की तब देश में तीनों सेनाएं जल सेना थल सेना और वायु सेना के तीनों प्रमुख भी शामिल थे रक्षा मंत्री जी की ओर से घोषणा में बताया गया है कि इस योजना के तहत उन युवाओं को मौका दिया जाएगा जो भारतीय सेनाओं में रहकर देश की सेवा करना चाहते हैं ऐसे युवाओं को अग्निपथ योजना के तहत भारतीय सेनाओं में 4 वर्ष तक नौकरी करने का मौका दिया जाएगा जिसके बाद उनमें से 25 फ़ीसदी युवाओं को अस्थाई तौर पर रख लिया जाएगा

जिन युवाओं को 4 वर्ष तक इस योजना Agneepath Yojana के तहत सेनाओं में नौकरी करने का मौका मिलेगा वह एक स्थाई सैनिक की तौर पर कार्य करेंगे उन्हें हर प्रकार की सुविधाएं दी जाएगी इसके अलावा मेडल भी उन्हें सेना में दिया जाएगा 25 फ़ीसदी युवाओं को सेना में स्थाई तौर पर सैनिक के रूप में रखने के पश्चात युवाओं को 4 वर्ष तक नौकरी करने के पश्चात सेवानिवृत्त किया जाएगा उन्हें लगभग 12 लाख रुपए एकमुश्त राशि के रूप में दिया जाएगा 3 महीने के अंदर अंदर इस योजना Agneepath Yojana की शुरुआत कर दी जाएगी

युवाओं को मिलेगी सैलरी-

अग्नीपथ योजना के तहत जो युवा तीनों सेनाओं में नौकरी करेंगे उन्हें 40 हजार रुपए तक की मासिक सैलरी भी 4 वर्ष तक दी जाएगी इसके अलावा उन्हें अवार्ड मेडल भी प्रदान किए जाएंगे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस योजना के तहत 45000 युवाओं को सेना में नौकरी करने का मौका दिया जाएगा वेतन के साथ-साथ युवाओं को बीमा कवर भी दिया जाएगा यदि कोई युवा शहीद हो जाता है या फिर विकलांग हो जाता है तो उसे 44 लख रुपे का बीमा कवर दिया जाएगा 4 वर्ष की नौकरी करने के पश्चात युवाओं को सेवानिवृत्त किया जाएगा इनमें से 25 फ़ीसदी युवाओं को स्थाई तौर पर नौकरी प्रदान की जाएगी जिसके बाद उन्हें 15 वर्ष तक नौकरी करने का मौका मिल पाएगा

योजना में कई राज्य आए आगे-

केंद्र सरकार की इस योजना को लेकर देश के कई राज्य आगे भी आए हैं उन्होंने सरकार की इस योजना की प्रशंसा की है तथा उन्होंने कहा है कि जो युवा 4 वर्ष तक नौकरी करने के पश्चात सेवानिवृत्त होंगे वह युवा अपने राज्य में अन्य सरकारी नौकरी कर पाएंगे उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी जैसे योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि 4 वर्ष तक नौकरी करने के बाद युवाओं को उत्तर प्रदेश पुलिस सेवा में प्राथमिकता दी जाएगी इसके अलावा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कहां है कि युवाओं को सेना से सेवानिवृत्त होने के बाद मध्य प्रदेश पुलिस सेवा में नौकरी करने का मौका दिया जाएगा इसके अलावा असम राज्य के मुख्यमंत्री जी की ओर से भी घोषणा की गई है कि जो युवा 4 वर्ष तक अग्नीपथ योजना के तहत सेना में रहकर आएंगे उन्हें असम आरोग्य निधि योजना में प्राथमिकता दी जाएगी

योजना में आवेदन के लिए आयु सीमा-

जो युवा अग्नीपथ योजना के तहत सेना में भर्ती होना चाहते हैं उन्हें जानकारी के लिए बता दें कि इस योजना के तहत 17 वर्ष से लेकर 21 वर्ष के युवाओं को भर्ती किया जाएगा तथा युवा कम से कम 12वीं पास उत्तीर्ण होने आवश्यक हैं तभी वह इस योजना के तहत सेना में भर्ती हो पाएंगे इसके अलावा उन्हें फिजिकल फिट तथा मेडिकल फिट होना भी आवश्यक है

Leave a Reply

Your email address will not be published.