बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना 2021 बिहार Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Registration Form - ALL GOVT YOJANA

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना 2021 बिहार Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Registration Form

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना क्या है | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Online Apply | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Online Status Check | बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना के बारेमे | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Application Form In Hindi | बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना ऑनलाइन पंजीयन विधि क्या है | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana 2021

Bandhua Majdoor Punarvas Yojana-आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से जानकारी देने वाले है की बिहार राज्य के श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की और से इस बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना की सुरुआत की गई है वैसे तो इस योजना को 2000 में सुरु किया गया था मगर 2016 में श्रम और रोजगार मंत्रालय की और से इस बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना में संसोधन किया गया पहले योजना में वितीय घटक को सुरु किया गया था मगर संसोधन के बाद इस वितीय घटक को समाप्त कर दिया गया और गैर वितीय घटक जिसे Non Cash Component कहा जाता है उसे लागू कर दिया गया है सरकार की और से राज्य में बहुत से बंधुआ मजदूरों को मुक्त करवाया गया है

जिसमे महिलाओं, पुरुष,तथा बच्चे शामिल है इन सभी कोई मुक्त करवाकर इनके पुनर्वास के लिए योजना को लागू किया गया है सरकार की और से इस योजना के तहत इन मुक्त किये गये बंधुआ मजदूरों को तीन श्रेणी में बांटकर इन्हें आर्थिक सहायता राशि दी जाती है देश हर राज्य में फैली बंधुआ मजदूर जैसी कुप्रथा को रोकने के लिए सरकार की और से बहुत से प्रयास किये जा रहे है बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना के तहत विमुक्त करवाए गये मजदूरों को 1 लाख रूपये से लेकर 3 लाख रूपये तक की सहायता राशि दी जाती है

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना क्या है  | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Online Apply | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Online Status Check | बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना के बारेमे | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana Application Form In Hindi | बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना ऑनलाइन पंजीयन विधि क्या है | Bandhua Majdoor Punarvas Yojana 2021

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना क्या है?

बिहार राज्य में ऐसे मजदूर लोग किसी व्यक्ति से पैसे उधार ले लेते है जिसके बाद वो लोग उस राशि को चुका नही पाते है और मजबूरन उन्हें उस व्यक्ति के पास काम करके उस पैसे को चुकाना पड़ता है कभी कभी तो राज्य में ऐसे भी परिवार है जिनमे बच्चों या फिर ओरतों को लिए गये पैसे के बदले काम करके पैसे चुकाने पड़ते है जिसके चलते साहूकार की और से उनका शोषण किया जाता है ऐसे लोगों को शोषण से बचाने के लिए इस बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना की सुरुआत की गई है इस योजना के तहत बंधुआ मजदूरों को मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है

योजना में श्रेणी के आधार के आधार पर सरकार की और से आर्थिक सहायता राशि दी जाती है ये राशि 1 लाख रूपये से लेकर 3 लाख रूपये तक की होती है जिन लोगों ने किसी व्यक्ति से पैसे लिए है और दिन रात उसके पास मेहनत करके पैसे का भुगतान कर रहा है उसे उससे मुक्त कराने के लिए ये राशि सरकार की और से दी जाती है जब मुक्त करा लिया जाता है उसके बाद सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता ब्राशी उसके पुनर्वास के लिए दी जाती है ताकि मजदूर को फिर से अपना जीवन जीने का मोका मिल सके

और अपनी जिन्दगी की नई सुरुआत कर सके बहुत से राज्य में बच्चे है जिसे लोग मजबूरन मेहनत मजदूरी करवाते है ऐसे बच्चों को इस योजना के तहत उनसे मुक्त करवाया जाता है और उन्हें सहायता राशि प्रदान की जाती है ताकि फिर से किसी व्यक्ति के दबाव में आकर काम न करना पड़े जो उचित नही है

योजनाबंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना
राज्यबिहार
ऑफिसियल वेबसाइट’यहाँ क्लिक करे
अपडेट2021
योजना टाइपमजदूरों के लिए
योजना का शुभारम्भसन 2000 में

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना का मुख्य उदेश्य:-

सरकार की इस योजना का मुख्य उदेश्य है की जो बंधुआ मजदूर है जिन्हें मजबूरी में काम करना पड़ता है जिनका किसी अन्य व्यक्ति द्वारा शोषण किया जाता है ऐसे लोगों को सरकार की और से मुक्त करवाया जा रहा है और उन्हें नया जीवन जीने के लिए आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जा रही है इस योजना में व्यस्क पुरुषों,महिलाओं तथा बच्चों को शामिल किया जा रहा है बिहार राज्य में न जाने ऐसे कितने लोग है जो किसी अन्य व्यक्ति के काम करते करते अपना पूरा जीवन गुजार देते है

मगर उधार लिए गये पैसे को नही चुका पाते है और कभी कभी तो मुखिया पुरुष की मृत्यु हो जाती है फिर भी बकाया पैसे को नही चुकाया जाता है और अंत में उस पैसे के लिए बच्चों या फिर महिलाओं को भी काम करना पड़ता है जिसके चलते उनका काफी ज्यादा शोषण किया जाता है बच्चों से जोखिम भरे कार्य करवाए जाते हिया जिसमे उनकी जान जाने का पूरा खतरा रहता है ऐसे में इस योजना को सुरु करके सरकार की और से एक कदम उठाया गयाहै ताकि बंधुआ मजदूरन को मुक्त करया जा सके

और उनके पुनर्वास के लिए सरकार की और से मदद की जा सके इस योजना के लाभ के लिए कुछ तय शर्ते भी रखी गई है जिनका पालन करना हर व्यक्ति को जरूरी है यदि आप भी जिस बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना के बारे में जानकर लाभ लेना चाहते है तो पोस्ट को पढना जारी रखे

{बिहार} बीड़ी कामगार आवास निर्माण योजना 2021 Bidi kamgar Awas Nirman Yojana Apply Form

बंधुआ मजदूरों को कितने भागों में बांटा गया है?

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना के तहत विमुक्त कराए गये बंधुआ मजदूरन को मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है आइये जाने कोन कोनसे भागों में बांटा गया है

  • बंधुआ मजदूर अनाथ बच्चे या महिलाएं-जो महिलाएं या फिर बच्चे किसी व्यक्ति के कुचक्र में फंस जाते है जिनके बाद उनसे जबरन काम करवाया जाता है या फिर बच्चों को भीख मंगवाया जाता है ऐसे महिलाओं और बच्चों को सरकार की और से पुनर्वास के लिए 1.25 लाख रूपये की आर्थिक सहायता राशि दी जाती है वैसे तो ये इन बच्चों और महिलाओं को 2 लाख रूपये की राशि दी जाती है मगर इनमे से 1.25 लाख रूपये की राशि Annuity Scheme के तहत उसके नाम से जमा सरकार की और से करवा दिए जाते है और बाकी की 75 हजार रोये की धनराशी उनके बैंक खाते में डाल दी जाती है
  • व्यस्क बंधुआ मजदूर-इस श्रेणी के मजदूर लोगों को बिहार सरकार की और से 1 लाख रूपये की राशि दी जाती है इस राशि को मजदूर चाहे तो अपने नाम से Annuity Scheme के तहत जमा करवा सकते है या फिर अपने बैंक खाते में जमा करवा सकते है इन दोनों विकल्प में मजदूर को स्वयं ही किसी एक का चयन करना होगा
  • घम्भीर प्रक्रति कार्य करने वाले मजदूर-इस योजना के तहत महिलाओं या फिर बालिकाओं को शामिल करके उनके पुनर्वास के लिए आर्थिक सहायता राशि दी जाती है जिन महिलाओं या फिर बालिकाओं से जबरन देह व्यापार,वेशाल्यो,मसाज पार्लर में काम करवाया जाता है एसी महिलाओं तथा बालिकाओं को इस योजना के तहत मुक्त करवाकर पुनर्वास के लिए 3 लाख रूपये की राशि दी जाती है इस राशि में से 2 लाख रूपये की राशि Annuity Scheme के तहत उनके नाम से जमा करवा दिए जाते है और बाकी की बची हुई राशि को E.C.S. के द्वारा उसके बैंक खाते में जमा करवा दिए जाते है

बंधुआ मजदूर पुनर्वास योजना के आवेदन की प्रक्रिया:-

बंधुआ मजदूरों को इस योजना से जुड़ने के लिए कोई आवेदन नही करना होता है क्योंकि सरकार की और से इस योजना के तहत राज्य के प्रत्येक जिले में जिले के अधिकारी की और से जिला स्तरीय गठन किया जाता है जिसमे सरकार की और से 10 लाख रूपये की धनराशी रखी जाती है उस 10 लाख रूपये की धनराशी में से जिन जिन बंधुआ मजदूरों को मुक्त करवाया जाता है उने लगभग 20-20 हजार रूपये की राशि प्रदान की जाती है यदि जिस महिला मजदूर या फिर बच्चों या बंधुआ पुरुषों को विमुक्त करया जाता है

उसके बाद उसकी स्तिथि के आधार पर जिला आधिकारि की और से इस राशि को ज्यादा भी किया जा सकता है जिन बच्चों को मुक्त करया जाता है अगर उनमे से बच्चे शिक्षा प्राप्त करना चाहते है तो उन्हें सरकार की और से शिक्षा ग्रहण करने के लिए आर्थिक सहायता की जाती है और जिन महिलाओं को घम्भीर कार्य से मुक्त कराया जाता है और उनके विवाह के लिए आर्थिक धनराशी का व्यय सरकार की और से किये जाता है

बिहार लेबर कार्ड लिस्ट ऑनलाइन देखे Labour Card List Bihar 2021

Leave a Comment

Your email address will not be published.