body{--wp--preset--color--black:#000000;--wp--preset--color--cyan-bluish-gray:#abb8c3;--wp--preset--color--white:#ffffff;--wp--preset--color--pale-pink:#f78da7;--wp--preset--color--vivid-red:#cf2e2e;--wp--preset--color--luminous-vivid-orange:#ff6900;--wp--preset--color--luminous-vivid-amber:#fcb900;--wp--preset--color--light-green-cyan:#7bdcb5;--wp--preset--color--vivid-green-cyan:#00d084;--wp--preset--color--pale-cyan-blue:#8ed1fc;--wp--preset--color--vivid-cyan-blue:#0693e3;--wp--preset--color--vivid-purple:#9b51e0;--wp--preset--color--contrast:var(--contrast);--wp--preset--color--contrast-2:var(--contrast-2);--wp--preset--color--contrast-3:var(--contrast-3);--wp--preset--color--base:var(--base);--wp--preset--color--base-2:var(--base-2);--wp--preset--color--base-3:var(--base-3);--wp--preset--color--accent:var(--accent);--wp--preset--gradient--vivid-cyan-blue-to-vivid-purple:linear-gradient(135deg,rgba(6,147,227,1) 0%,rgb(155,81,224) 100%);--wp--preset--gradient--light-green-cyan-to-vivid-green-cyan:linear-gradient(135deg,rgb(122,220,180) 0%,rgb(0,208,130) 100%);--wp--preset--gradient--luminous-vivid-amber-to-luminous-vivid-orange:linear-gradient(135deg,rgba(252,185,0,1) 0%,rgba(255,105,0,1) 100%);--wp--preset--gradient--luminous-vivid-orange-to-vivid-red:linear-gradient(135deg,rgba(255,105,0,1) 0%,rgb(207,46,46) 100%);--wp--preset--gradient--very-light-gray-to-cyan-bluish-gray:linear-gradient(135deg,rgb(238,238,238) 0%,rgb(169,184,195) 100%);--wp--preset--gradient--cool-to-warm-spectrum:linear-gradient(135deg,rgb(74,234,220) 0%,rgb(151,120,209) 20%,rgb(207,42,186) 40%,rgb(238,44,130) 60%,rgb(251,105,98) 80%,rgb(254,248,76) 100%);--wp--preset--gradient--blush-light-purple:linear-gradient(135deg,rgb(255,206,236) 0%,rgb(152,150,240) 100%);--wp--preset--gradient--blush-bordeaux:linear-gradient(135deg,rgb(254,205,165) 0%,rgb(254,45,45) 50%,rgb(107,0,62) 100%);--wp--preset--gradient--luminous-dusk:linear-gradient(135deg,rgb(255,203,112) 0%,rgb(199,81,192) 50%,rgb(65,88,208) 100%);--wp--preset--gradient--pale-ocean:linear-gradient(135deg,rgb(255,245,203) 0%,rgb(182,227,212) 50%,rgb(51,167,181) 100%);--wp--preset--gradient--electric-grass:linear-gradient(135deg,rgb(202,248,128) 0%,rgb(113,206,126) 100%);--wp--preset--gradient--midnight:linear-gradient(135deg,rgb(2,3,129) 0%,rgb(40,116,252) 100%);--wp--preset--duotone--dark-grayscale:url('#wp-duotone-dark-grayscale');--wp--preset--duotone--grayscale:url('#wp-duotone-grayscale');--wp--preset--duotone--purple-yellow:url('#wp-duotone-purple-yellow');--wp--preset--duotone--blue-red:url('#wp-duotone-blue-red');--wp--preset--duotone--midnight:url('#wp-duotone-midnight');--wp--preset--duotone--magenta-yellow:url('#wp-duotone-magenta-yellow');--wp--preset--duotone--purple-green:url('#wp-duotone-purple-green');--wp--preset--duotone--blue-orange:url('#wp-duotone-blue-orange');--wp--preset--font-size--small:13px;--wp--preset--font-size--medium:20px;--wp--preset--font-size--large:36px;--wp--preset--font-size--x-large:42px;--wp--preset--spacing--20:0.44rem;--wp--preset--spacing--30:0.67rem;--wp--preset--spacing--40:1rem;--wp--preset--spacing--50:1.5rem;--wp--preset--spacing--60:2.25rem;--wp--preset--spacing--70:3.38rem;--wp--preset--spacing--80:5.06rem}:where(.is-layout-flex){gap:0.5em}body .is-layout-flow > .alignleft{float:left;margin-inline-start:0;margin-inline-end:2em}body .is-layout-flow > .alignright{float:right;margin-inline-start:2em;margin-inline-end:0}body .is-layout-flow > .aligncenter{margin-left:auto !important;margin-right:auto !important}body .is-layout-constrained > .alignleft{float:left;margin-inline-start:0;margin-inline-end:2em}body .is-layout-constrained > .alignright{float:right;margin-inline-start:2em;margin-inline-end:0}body .is-layout-constrained > .aligncenter{margin-left:auto !important;margin-right:auto !important}body .is-layout-constrained >:where(:not(.alignleft):not(.alignright):not(.alignfull)){max-width:var(--wp--style--global--content-size);margin-left:auto !important;margin-right:auto !important}body .is-layout-constrained > .alignwide{max-width:var(--wp--style--global--wide-size)}body .is-layout-flex{display:flex}body .is-layout-flex{flex-wrap:wrap;align-items:center}body .is-layout-flex > *{margin:0}:where(.wp-block-columns.is-layout-flex){gap:2em}.has-black-color{color:var(--wp--preset--color--black) !important}.has-cyan-bluish-gray-color{color:var(--wp--preset--color--cyan-bluish-gray) !important}.has-white-color{color:var(--wp--preset--color--white) !important}.has-pale-pink-color{color:var(--wp--preset--color--pale-pink) !important}.has-vivid-red-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-red) !important}.has-luminous-vivid-orange-color{color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-amber-color{color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-amber) !important}.has-light-green-cyan-color{color:var(--wp--preset--color--light-green-cyan) !important}.has-vivid-green-cyan-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-green-cyan) !important}.has-pale-cyan-blue-color{color:var(--wp--preset--color--pale-cyan-blue) !important}.has-vivid-cyan-blue-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-cyan-blue) !important}.has-vivid-purple-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-purple) !important}.has-black-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--black) !important}.has-cyan-bluish-gray-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--cyan-bluish-gray) !important}.has-white-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--white) !important}.has-pale-pink-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--pale-pink) !important}.has-vivid-red-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-red) !important}.has-luminous-vivid-orange-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-amber-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-amber) !important}.has-light-green-cyan-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--light-green-cyan) !important}.has-vivid-green-cyan-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-green-cyan) !important}.has-pale-cyan-blue-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--pale-cyan-blue) !important}.has-vivid-cyan-blue-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-cyan-blue) !important}.has-vivid-purple-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-purple) !important}.has-black-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--black) !important}.has-cyan-bluish-gray-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--cyan-bluish-gray) !important}.has-white-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--white) !important}.has-pale-pink-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--pale-pink) !important}.has-vivid-red-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-red) !important}.has-luminous-vivid-orange-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-amber-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-amber) !important}.has-light-green-cyan-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--light-green-cyan) !important}.has-vivid-green-cyan-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-green-cyan) !important}.has-pale-cyan-blue-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--pale-cyan-blue) !important}.has-vivid-cyan-blue-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-cyan-blue) !important}.has-vivid-purple-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-purple) !important}.has-vivid-cyan-blue-to-vivid-purple-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--vivid-cyan-blue-to-vivid-purple) !important}.has-light-green-cyan-to-vivid-green-cyan-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--light-green-cyan-to-vivid-green-cyan) !important}.has-luminous-vivid-amber-to-luminous-vivid-orange-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--luminous-vivid-amber-to-luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-orange-to-vivid-red-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--luminous-vivid-orange-to-vivid-red) !important}.has-very-light-gray-to-cyan-bluish-gray-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--very-light-gray-to-cyan-bluish-gray) !important}.has-cool-to-warm-spectrum-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--cool-to-warm-spectrum) !important}.has-blush-light-purple-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--blush-light-purple) !important}.has-blush-bordeaux-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--blush-bordeaux) !important}.has-luminous-dusk-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--luminous-dusk) !important}.has-pale-ocean-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--pale-ocean) !important}.has-electric-grass-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--electric-grass) !important}.has-midnight-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--midnight) !important}.has-small-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--small) !important}.has-medium-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--medium) !important}.has-large-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--large) !important}.has-x-large-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--x-large) !important}.wp-block-navigation a:where(:not(.wp-element-button)){color:inherit}:where(.wp-block-columns.is-layout-flex){gap:2em}.wp-block-pullquote{font-size:1.5em;line-height:1.6} .separate-containers .inside-article>.featured-image{margin-top:0;margin-bottom:2em;display:none}

बिहार मजदुर कार्ड पंजीयन फॉर्म – Bihar Majdur Card Application Form List

बिहार मजदुर कार्ड, बिहार लेबर कार्ड, बिहार मजदुर कार्ड कि लिस्ट केसे देखे, Bihar Majdur Card Registration form, बिहार मजदुर कार्ड स्टेट्स केसे चेक करे, Bihar Majdur Card 2021, बिहार श्रमिक कार्ड केसे बनाये, Bihar Majdur Card list, बिहार मजदुर कार्ड कि फ़ीस कितनी है, बिहार मजदुर कार्ड बनाने के दस्तावेज और पात्रता, Bihar Majdur Card online apply, मजदुर कार्ड, बिहार मजदुर कार्ड एप्लीकेशन फॉर्म, बिहार मजदुर कार्ड पंजीयन फॉर्म

बिहार मजदुर कार्ड योजना के बारे में

बिहार राज्य के जो मजदुर असंगठित क्षेत्र में काम करते है उनके लिए सरकार द्वारा एक श्रम विभाग (BOCW) बनाया गया है श्रम विभाग मजदूरो कि समस्या के लिए व मजदूरो कि आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए कई योजना शुरू करता है जैसे लेबर आवास योजना,टूल किट योजना,पुत्री विवाह योजना,छात्रवर्ती योजना,बिमा योजना आदि जैसे कई योजना शुरू कि है ताकि मजदुर भी अपनी आर्थिक स्थिति को सुधार सके व मजदुर के जीवन चरिया में कुछ सुधार हो इसके लिए मजदुर को पंजीयन करवाना होता है

यानी इन सभी योजना का लाभ पंजीयन मजदुर को दिया जाता है बिहार मजदुर पंजीयन के लिए आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते है आपको मजदुर कार्ड योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करने कि जानकारी को स्टेप वाइज निचे दिया गया है

  • बिहार मजदुर कार्ड योजना के बारे में ?
  • बिहार मजदुर कार्ड योजना क्या है ?
  • बिहार मजदुर कार्ड योजना के लाभ क्या है ?
  • बिहार मजदुर कार्ड योजना के लाभ क्या है ?
  • असंगठित क्षेत्र के मजदुर कोनसे होते है ?
  • बिहार मजदूर कार्ड बनाने के लिए दस्तावेज क्या है ?
  • बिहार मजदुर कार्ड योजना के लिए पात्रता क्या है ?
  • बिहार मजदुर कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाई केसे करे ?
  • लॉगइन केसे करते है ?
  • बिहार मजदुर कार्ड कि लिस्ट को केसे देखे ?
  • बिहार मजदुर कार्ड हेल्पलाइन नंबर ?

बिहार मजदुर कार्ड योजना क्या है

बिहार सरकार ने अपने राज्य के अभी मजूदरो का लेबर कार्ड बनाने कि एक योजना है इससे सभी लोगो को लाभ मिलेगा इस मजदूर कार्ड योजना से बिहार राज्य के सभी लोगो को रोजगार मिलेगा असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरो को लेबर कार्ड योजना का लाभ लेने के लिए श्रम विभाग में पंजीयन करवाना होता है जो ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते है जिसके बाद श्रमिक योग्यता अनुसार श्रमिक कार्ड कि सभी योजना का लाभ ले सकता है

अगर आप मजदुर है या आपके परिवार में कोई मजदुर है और आपका श्रमिक कार्ड यानी लेबर कार्ड नहीं बना है तो आप ऑनलाइन अप्लाई कर सकते है इसके आपको कुछ दस्तावेज कि आवश्यकता होती है असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदुर कोन से होते है

बिहार मजदुर कार्ड योजना के लाभ क्या है ?

  • जिन श्रमिको का मजदुर कार्ड बना हुआ है उन मजदूर की बेटी की शादी के समय सरकार के द्वारा रु 55,000 की सहायता राशि प्रदान की जाती है ।
  • बिना श्रमिक पंजीकरण (Bihar labor registration) के आप मजदुर वर्ग को मिलने वाले सभी योजना और उनके तहत मिलने वाले लाभ का फायदा नहीं ले पायेंगे।
  • लेबर रजिस्ट्रेशन होने बाद गंभीर बीमारियों से पीड़ित मरीजों पर जो भी खर्च आता है पूरा खर्च सरकार के द्वारा उठाया जाता है।
  • Labour Card के माध्यम से मजदूर अपने बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए रु 60,000 की सहायता सरकार द्वारा प्राप्त कर सकते हैं।
  • छात्र या छात्रा अगर 80 फ़ीसदी या इससे अधिक अंक प्राप्त करते हैं तो उन्हें ₹25000 प्रोत्साहन राशि , अगर 70 फ़ीसदी या इससे अधिक अंक प्राप्त करते हैं तो ₹15000 प्रोत्साहन राशि और यदि 60 फ़ीसदी या इससे अधिक अंक प्राप्त करते हैं तो इन्हें ₹10000 प्रोत्साहन राशि के रूप में दिया जाएगा 

बिहार मजदुर कार्ड पंजीयन फॉर्म

  • बिहार मजदुर कार्ड योजना का लाभ सिर्फ असंगठित क्षेत्र के मजदुर को ही दिया जायेगा और वो इस योज्ना का ऑनलाइन आवेदन कर सकते है
  • लेबर रजिस्ट्रेशन हर राज्य के लिए अलग-अलग होता है जिस वजह से मजदूरों को अलग अलग राज्य में लाभ भी थोड़ा बहुत अलग-अलग प्रकार से मिल सकता है 
  • यदि मजदूर के घर में संतति की उत्पत्ति होती है अगर बेटा होता है तो ₹12000 और अगर बेटी होती है तो ₹25000 की रकम दी जाती है
  • मजदूर कार्ड/ श्रम कार्ड /लेबर कार्ड (labour card) के और भी बहुत सारे फायदे हैं 
  • बिहार में अगर लेबर कार्ड धारक मजदूर का बच्चा या बच्ची कक्षा 10 में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण होते हैं तो उन्हें उनके प्राप्तांक और प्रतिशत के अनुसार अलग-अलग प्रोत्साहन राशि दी जाएगी 
  • असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदुर कोन से होते है यह आप यहा जान सकते है

असंगठित क्षेत्र के मजदुर कोनसे होते है ?

अगर आपको पता नही है कि असंगठित क्षेत्र में कोनसे मजदुर आते है तो आपको इसकी जानकारी को स्टेप वाइज निचे टेबल में दिया गया है जिससे आप को पता चल जायेगा कि असंगठित क्षेत्र के मजदुर कोनसे होते है और क्या काम करते है

क्र. कार्य
1 पत्थर काटने, पत्थर तोड़ने एवं पत्थर पीसने वाले
2 राजमिस्त्री (मैसन) या ईंटों पर रद्दा करने वाले
3 बढ़ई (कारपेंटर), लकडी की सामाग्रियों में पेंटिग एवं वार्निशिंग करने वाले कर्मकार
4 पुताई करने वाले (पेंटर)
5 फिटर या बार बेंडर
6 सड़क के पाइप मरम्मत कार्य में लगे प्लम्बर, नाली निर्माण एवं नल संबंधी कार्य करने वाले कर्मकार
7 इलेक्ट्रीशियन, विधुत वायरिंग, वितरण एवं पैनल फिटिंग संबंधी कार्य करने वाले कर्मकार
8 मैकेनिक
9 कुऎं खोदने वाले
10 वेल्डिंग करने वाले
11 मुख्य मजदूर
12 मजदूर (रेजा, कुली)
13 स्प्रेमेन या मिक्सरमेन (सड़क बनाने में लगे हुये)
14 लकड़ी या पत्थर पैक करने वाले
15 कुएं में गाद (तलछट) हटाने वाले गोताखोर
16 हथौड़ा चलाने वाले
17 छप्पर डालने वाले
18 लोहार
19 लकड़ी चीरने वाले

बिहार मजदुर कार्ड पंजीयन फॉर्म

क्र. कार्य
20 कॉलकर
21 मिश्रण करने वाले (कांक्रीट मिक्सर मशीन चलाने वाले सहित)
22 पंप आपरेटर
23 मिक्सर चलाने वाले
24 रोलर चालक
25 बड़े यांत्रिक कार्य जैसे – भारी मशीनरी, पुल का कार्य आदि में लगे खलासी
26 चौकीदार एवं सिक्योरिटी गार्ड
27 मोजाइक पॉलिश करने वाले
28 सुरंग कर्मकार
29 संगमरमर/ कड़प्पा पत्थर, मारबल, स्लैब कटिंग, पॉलिश एवं टाईल्स संबंधी कार्य करने वाले कर्मकार
30 सड़क कर्मकार
31 चट्टान तोड़ने वाले या खनि कर्मकार
32 सन्निर्माण कार्य से जुडे मिट्टी का कार्य करने वाले
33 चूना बनाने की क्रिया में लगे कर्मकार
34 बाढ़ कटाव रोधी कार्य में लगे कर्मकार
35 बांध, पुल, सड़क या किसी भवन सन्निर्माण प्रक्रिया में नियोजन में लगे कोइ अन्य प्रवर्ग के कर्मकार
36 ईट भट्ठा, खपरा, फ्लाई ऎश , टाईल्स मजदूर
37 पंडाल सन्निर्माण में लगे कर्मकार
38 बंसोड
39 कुम्हार
40 सीमेंट पोल,सीमेंट की जाली, गमले,पाईप,टंकी आदि बनाने वाले कर्मकार
41 रेंत या गिट्टी मजदूर
42 निर्माण में अग्निशमन संयंत्र लगाने वाले श्रमिक
43 एयर कण्डीशनर, शीतलीकरण, वाष्पीकरण यंत्र तथा गीजर जैसे उपकरणो की फिटिंग / मरम्मत करने वाले कर्मकार
44 लोहे के ग्रिल, खिडकियां, दरवाजे बनाने व लगाने वाले कर्मकार
45 भवनों में कारपेंट का काम करने वाले कर्मकार
46 लिफ्ट एवं एस्केलेटर लगाने तथा रखरखाव करने वाले कर्मकार
47 सोलर पैनल निर्माण करने वाले, लगाने/मरम्मत करने वाले कर्मकार
48 माड्यूलर किचन निर्माण करने वाले / लगाने वाले कर्मकार
49 पी.ओ.पी. का कार्य करने वाले, फॉल्स सीलिंग, लाईटिंग जैसे आंतरिक साज-सज्जा संबंधी कार्य करने वाले कर्मकार
50 सेंट्रिंग कर्मकार
51 सुरक्षा दरवाजे, सुरक्षा यंत्र लगाने वाले एवं बनाने वाले कर्मकार
52 जल संरक्षण (Water Harvesting) से संबंधित कार्य करने वाले कर्मकार
53 कॉच एवं ग्लास पैनल्स की कटिंग करने और लगाने संबंधी कार्य करने वाले कर्मकार
54 खेल मैंदान, स्वीमिंग पुल, गोल्फ कोर्स जैसे मनोरंजन स्थल का निर्माण करने वाले कर्मकार

बिहार मजदूर कार्ड बनाने के लिए दस्तावेज क्या है ?

अगर आप बिहार राज्य के निवासी है और आपको अपना मजदुर कार्ड बनाना है तो इसके लिए आपको बहुत से जरुरी दस्तावेज कि जरुरत होती है जिनकी लिस्ट को निचे दिया गया है जिसे आप अपना लेबर कार्ड आसानी से बना सकते है

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का राशन कार्ड
  • सदस्य का आय प्रमाण पत्र
  • आवेदक का पेन कार्ड
  • आवेदक का मोबाइल नंबर
  • सदस्य कि पासपोर्ट साईज फोटो
  • आवेदक का मूल निवास प्रमाण पत्र
  • आवेदक कि बैंक पासबुक

बिहार मजदुर कार्ड योजना के लिए पात्रता क्या है ?

अगर आप बिहार मजदुर कार्ड के लिए आवेदन करते है तो आपको इस योजना का पात्र होना जरुरी है तभी आप इस योजना का लाभ ले सकते है और अपना मजदुर कार्ड बना सकते है अगर आप इस बिहार मजदुर कार्ड योजना का आवेदन करते है तो अपमे निचे दी गई सभी पात्रता होना जरुरी है जिसके बाद आप बिहार लेबर कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है

  • आवेदक व्यक्ति बिहार राज्य का निवासी होना चाहिए तभी इस योजना के लिए आवेदन कर सकता है
  • परिवार के एक ही सदस्य का श्रमिक कार्ड बनेगा।
  • श्रमिकों ने 12 महीने में 90 दिन श्रमिक के रूप में कार्य किया है, वे Bihar labor Card registration के लिए पात्र होंगे।
  • बिहार मजदुर कार्ड योजन के लिए आवेदन असंगठित क्षेत्र के मजदुर ही कर सकते है
  • इक्छुक उम्मीदवार श्रमिक की आयु 18 वर्ष से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

बिहार मजदुर कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाई केसे करे

अगर आप अपना मजदुर कार्ड बनाना चाहते है तो आप को अपने मजदुर कार्ड के लिए कही पर भी जाने कि जरूरत नही है आप अपने घर से मजदुर कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते है अगर आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है तो आप को निचे जानकारी को स्टेप वाइज दिया गया है जिससे आप अपने मजदुर कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन आसानी से कर सकते है मजदुर कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए निचे दिए गए सभी स्टेप को फोल्लो करे जिससे आपको आवेदन करने में आसानी हो

  • सबसे पहले आपको श्रम संसाधन विभाग बिहार की ऑफिसियल वेबसाइट Labour.bih.nic.in पर जाना होगा।
  • जिसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज ओपन हो जायेगा
  • यहां आपको होम पेज पर श्रमिक पंजीकरण के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जिसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।जो आपको इस तरह से दिखेगा
  • इस नये पेज में आपके सामने मजदुर कार्ड योजना का रजिस्ट्रेशन फॉर्म ओपन हो जायेगा
  • जिसमे आपसे पूछी गई सभी जानकारी को भरना है

बिहार मजदुर कार्ड पंजीयन फॉर्म

  • अभी आपको इस फॉर्म में अपना नाम,अपने पिता का नाम,अपना आधार कार्ड के नंबर,अपनी जन्म तारीख,अपना जेंडर/लिंग का चयन करना है, आवेदक शादी सुदा है कि नही इसकी पुर्ष्टि करना है
  • इसके बाद आवेदक को अपना मोबाइल नंबर को दर्ज करना है जिसके बाद आपके मोबाइल नंबर पर एक otp आ जायेगा
  • अभी आपको सभी शर्तो को मानकर निचे रजिस्टर करे के ओपसन पर क्लिक कर देना है
  • अभी आपको अपना आवेदन फॉर्म को लगीं करना है जिसके लिए आपको एक बार फिर से होम पेज पर जाना है

लॉगइन केसे करते है

  • आवेदन करने के बाद आवेदक को लॉग इन करना होता है जिसेक लिए आप को सबसे पहले वेबसाइट के होम पेज पर जाना है जिसके बाद आपको इस में श्रमिक लॉगइन के ओपसन पर जाना है और क्लिक करना है
  • श्रमिक लॉगइन के ओपसन पर करने के बाद आपके सामने एक नया पेज ओपन हो जायेगा
  • इस पेज में आपको अपना आधार कार्ड नंबर और मोबाइल नंबर को दर्ज करना है
  • इसके बाद आपको निचे दिए गए लॉग इन करे के ओपसन पर क्लिक करना है
  • जिसके बाद आपके सामने एक पेन ओपन होगा जिसमे आपको अपने सभी दस्तावेज को अपलोड करना है
  • और पूछी गई जानकारी को भरना है
  • इसके बाद निचे दिए गए सबमिट के ओपसन पर क्लिक कर देना है
  • अभी आपके आवेदन करने कि प्रिकिर्या पूरी हो जाएगी

बिहार मजदुर कार्ड कि लिस्ट को केसे देखे ?

अगर आपने बिहार मजदुर कार्ड के लिए आवेदन किया है और अपना नाम सूचि में ऑनलाइन देखना चाहते है तो आपको इसकी जानकारी को निचे स्टेप वाइज दिया गया है जिससे आप अपना नाम को आसानी से योजना कि लिस्ट में चेक कर सकते है अगर आप को अपना नाम लिस्ट में ऑनलाइन देखना है तो निचे दिए गए सभी स्टेप को फॉलो करे ताकि आप आसानी से अपना नाम देख सके

  • अपना नाम को सूची में देखने के लिए आप को सबसे पहले बिहार Lebar Card कि ऑफिसियल वेबसाइट BOCW पर जाए
  • यहा जाने के बाद आपके सामने इस तरह का पेज ओपन होगा 
  • यहा आपको REGISTER LABOUR पर क्लिक करना है जिसके बाद एक और नया पेज ओपन होगा
  • जिसमे आपको सबसे पहले ग्रामीण या शहरी सेलेक्ट करना है
  • इसके बाद आपको जिला सेलेक्ट करना है फिर आपको अपना ब्लाक सेलेक्ट करना है
  • और इसके बाद आपको ग्राम पंचायत सेलेक्ट करनी है अब निचे लिखे सर्च पर क्लिक कर देना है जिसके बाद सूचि ओपन हो जायगी इस तरह कि
  • इस सूचि में आप अपना नाम देख सकते हो इसके अलावा पिता का नाम रजिस्टर नंबर आदि जानकारी देख सकते है
  • अगर आपका नाम इस लिस्ट में नही आता है तो आप फिर योजन के लिए आवेदन कर सकते है हो सकता है आपके फॉर्म में किसी भी प्रकार कि गलती हो गई है

बिहार मजदुर कार्ड हेल्पलाइन नंबर

बिहार मजदुर कार्ड से समन्धित किसी भी प्रकार कि जानकारी के लिए आप निचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर से सम्पर्क कर सकते है और अगर आपको मजदुर कार्ड के आवेदन करने या इस योजना से समन्धित किसी भी जानकारी के लिए इन हेल्पलाइन नंबर से कॉल कर सकते है और जानकारी प्राप्त कर सकते है

  • बिहार भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड
  • सी विंग, चौथी मंजिल, नियोजन भवन,
  • आयकर गोलम्बर, पटना के पास
  • पटना – 800001
  • दूरभाष :- 0612-2525558
  • [email protected]
Telegram Icon
Join Our Telegram Group
Telegram Icon
Join Our Telegram Group

Leave a Comment

RECENT