body a{text-decoration:none}.header-main{display:inline-flex;align-items:center;display:none}.header-main h1{font-size:22px;font-weight:bold}.header-main h1:hover{color:red}.header-main span{display:none;font-size:14px;margin:0 7px}:root{--main-font:Arial, sans-serif;--primary-color:#260c1a;--secondary-color:#fff;--sidebar-bg:#f0f0f0;--max-width:1200px}*{margin:0;padding:0;box-sizing:border-box;font-weight:normal}body{font-family:Arial, sans-serif;word-break:break-word;background-color:var(--sidebar-bg)}header{background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color);padding:5px 0;position:fixed;top:0;left:0;width:100%;z-index:1000;max-height:50px;border-bottom:1px solid}footer a{color:var(--secondary-color)}header a{color:var(--secondary-color)}.website-logo img{height:35px;width:auto}.website-logo a{display:flex}#ht-top-bar{display:none;width:100%;height:30px;font-size:13px;margin-bottom:2px;border-bottom:1px solid;padding:0 10px}#ht-top-bar-info{display:flex}#ht-site-title-top a{color:var(--secondary-color);text-decoration:none;font-size:24px}#ht-site-description-top{color:var(--secondary-color);display:flex;align-items:center;margin:0 10px}#header-content{display:flex;max-width:1200px;justify-content:space-between;align-items:center;padding:0 20px;margin:auto}.menu-toggle{display:none;cursor:pointer;font-size:24px}.menu-toggle.active span:nth-child(1){transform:rotate(45deg) translate(5px, 5px)}.menu-toggle.active span:nth-child(2){opacity:0}.menu-toggle.active span:nth-child(3){transform:rotate(-45deg) translate(7px, -7px)}#HTheaderMenu{display:flex;font-size:20px}.ht-menu{list-style-type:none;display:flex}.ht-menu li{margin-right:20px;text-transform:uppercase;font-size:18px;font-weight:bold}.ht-menu li a{color:var(--secondary-color);text-decoration:none}#svg-searchicon{display:block;width:25px;height:25px}.ht-article-home{display:block;border-bottom:1px solid;margin:5px auto;padding:5px 0}#search-system-related{width:100%;height:auto;margin:auto;position:fixed;top:40px;padding:20px;border:2px solid #ffffff;overflow:auto;background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color)}.search-box form{background:#fff;border-radius:8px}.search-box{display:inline-block;width:100%}.search-input-wrapper{display:flex}.search-input-wrapper input{width:80%;display:block;margin:auto;padding:20px 10px;border:none;outline:none;border-radius:30px}#search-results li{list-style:none;text-align:inherit;padding:2px;margin:0}#search-results a{color:var(--secondary-color);text-decoration:none;font-size:16px}.mainHTcontent{display:flex;flex-wrap:wrap;margin:55px auto auto auto;max-width:var(--max-width);border-bottom:1px solid}.sidebarOne{flex:1 0 20%;background-color:white;padding:10px;display:none}.sidebarOne h2{background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color);text-align:center;padding:0 4px;margin:4px 0}.HT-artical-Main{flex:1 0 50%;background-color:#fff;padding:0 12px;margin:0 10px}.articalheader{display:block;width:fit-content;margin:5px auto;background:#e5e5e5;padding:0 5px}.latestcategoryartical h2{margin:10px auto;border-bottom:1px solid}.ht-sidebar{flex:1 0 20%;background-color:white;padding:10px}.ht-sidebar h2{background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color);text-align:center;padding:0 4px;margin:4px 0}.ht-sidebar h3{margin:7px 0;border-bottom:1px solid;font-size:16px}.ht-sidebar a{color:#007bff}.statetovillage{margin:5px;display:inline-block}.statetovillage span{margin:0 5px;text-transform:capitalize}.statetovillage span::after{content:"»";margin:0 5px;color:#666}.statetovillage span:last-child::after{content:""}footer span{display:block;margin:12px 0}footer{background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color);padding:40px 0}.container-footer{display:flex;flex-wrap:wrap;justify-content:space-between;max-width:var(--max-width);margin:0 auto;padding:0 20px}.footer-section{flex:1 0 calc(25% - 20px);margin-bottom:20px;padding:0 10px}.footer-section h2{font-size:20px;margin-bottom:10px}.footer-section p{font-size:14px}.post p{font-size:17px;margin-bottom:10px;line-height:1.6}.post h1{margin:5px 0;font-weight:bold;font-size:22px}.post h2{margin:5px 0;font-weight:bold;font-size:22px}.post h3, .post h4, .post h5, .post h6{margin:10px 0;font-weight:bold}.post img{max-width:95%;height:auto;display:block;margin:0 auto;border-radius:12px}.post ul{margin-bottom:20px}.post ul li{list-style-type:disc;margin-left:7px}.post ol{margin-bottom:20px}.post ol li{list-style-type:decimal;margin-left:20px}.post a{color:#007bff}.post a:hover{text-decoration:none}.post blockquote{margin:0 0 20px 20px;padding:0 0 0 20px;border-left:5px solid #007bff}.post hr{border:1px solid #ccc;margin:20px 0}.post pre{background-color:#f8f9fa;border:1px solid #ccc;padding:10px;overflow-x:auto;font-size:14px}.post code{font-family:'Courier New',}.post table{width:fit-content;display:block;margin:10px auto;border-collapse:collapse}td, th{padding:8px;font-size:16px;line-height:1.8;border:1px solid #96aab480}th{background:#0384b7}.table-striped tr:nth-child(even){background-color:#f2f2f2}.table-striped tr:nth-child(odd){background-color:#fff}#comment-sesction{margin:5px auto;height:auto;background:white}#commentForm{border-radius:8px;box-shadow:0 0 6px;margin:5px auto;padding:15px;text-align:center;background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color);max-width:600px}#commentForm label{display:block;margin-bottom:8px;font-weight:bold}#commentForm input[type="text"], #commentForm textarea{width:100%;padding:10px;margin-bottom:16px;border:1px solid #ccc;border-radius:4px;box-sizing:border-box}#commentForm textarea{resize:vertical;height:120px}#commentForm input[type="button"]{background-color:var(--primary-color);color:var(--secondary-color);padding:10px 15px;border:none;border-radius:4px;cursor:pointer;font-size:16px}#commentForm input[type="button"]:hover{background-color:#45a049}.comments{max-width:600px;margin:20px auto}.comment{border:1px solid #ddd;padding:10px;margin-bottom:10px;border-radius:4px;background-color:#fff}.comment strong{color:#333}.comment-details{display:block;color:black}.comment-name small{color:black}#loadAllCommentsButton{padding:5px;font-size:15px}#people-already-share-comment{margin:auto;max-width:600px;display:block}.comment-user-icon{display:inline-block;font-size:20px}#people-already-share-comment h3{display:inline-block;margin:0 7px;font-size:16px}.user-comment-description{display:block;padding:5px;border-bottom:1px solid;font-size:13px}#people-already-share-comment button{padding:5px 10px;margin:5px}.breadcrumbData{display:block;width:auto;margin:5px 0;padding:0 5px;font-size:15px}.breadcrumb{list-style:none;padding:0;margin:0}.breadcrumb li{display:inline-flex}.breadcrumb li::after{content:"»";margin:0 5px;color:#666}.breadcrumb li:last-child::after{content:""}.breadcrumb li:last-child a{display:inline-block;max-width:350px;overflow:hidden;text-overflow:ellipsis;white-space:nowrap}.star-rating-form{display:inline-block;justify-content:center;align-items:center}#ratingInfo{display:inline-block;font-size:12px;margin:0 10px}#averageRating{display:inline-block}#totalRatings{display:inline-block}#averageRating::before{content:"Rating - "}#averageRating::after{content:" / "}#totalRatings::before{content:" Votes - "}.star{display:inline-block;color:#c6ae73;transition:transform 0.2s, color 0.2s;font-size:28px;margin:0 3px}.star:hover{transform:scale(1.5);color:#eeb700}.star-rating-form h2{display:none}#starRating .star:nth-child(5){font-size:36px;color:#e1a40a}#starRating{display:inline-block}.thankYouMessage{display:inline-block;font-size:13px}.category{display:none;font-size:13px}h2[id^="Question-"]::before{content:"Q:";color:#c9c9c9}div[id^="answer-"] p::before{content:"Ans.:";font-weight:bold;color:#9f9f9f}div[id^="answer-"] p{border-bottom:1px solid}.latest-page{border-bottom:1px solid #bdbdbd;display:block}.latest-page img{width:96%;margin:2px auto}@media screen and (max-width:768px){.breadcrumb li:last-child a{display:inline-block;max-width:60px;overflow:hidden;text-overflow:ellipsis;white-space:nowrap}#ht-site-title-top a{font-size:20px}.website-logo img{height:auto;width:40px}.menu-toggle{display:block}#HTheaderMenu{position:absolute;top:100%;left:0;background-color:var(--primary-color);width:100%;text-align:center;z-index:999}.ht-menu{list-style-type:none;display:none;border-top:1px solid;width:100%;margin-top:1px;padding:5px}.menu-toggle span{display:block;width:25px;height:3px;background-color:var(--secondary-color);margin-bottom:5px}.menu.active{display:flex;flex-direction:column}.menu-toggle.active span:nth-child(1){transform:rotate(45deg) translate(5px, 5px)}.menu-toggle.active span:nth-child(2){opacity:0}.menu-toggle.active span:nth-child(3){transform:rotate(-45deg) translate(7px, -7px)}.ht-menu li{margin-bottom:20px}#svg-searchicon{display:block}.sidebarOne{display:none}.HT-artical-Main{flex-basis:100%;padding:0 12px;margin:0}.footer-section{flex:1 0 calc(50% - 20px)}.website-description{display:none}}@media screen and (max-width:300px){.breadcrumbData{display:none;max-width:200px}}@media screen and (max-width:250px){.website-logo img{display:none}#commentForm input[type="button"]{padding:0}#svg-searchicon{display:none}}

All Govt Yojana

All Government Program Latest News Updates and more
All Government Program Latest News Updates and more. Sarkari Yojana (सरकारी योजना)
search icon

How to become anganwadi worker - आगनबाड़ी कार्यकता कैसे बने, आगन बाड़ी भर्ती -2023

आगनबाड़ी कार्यकता कैसे बने,  Aagan Badi Bharti Yojana Benefites, आगन बाड़ी भर्ती - 2023, How to become anganwadi worker, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की योग्यता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सूची, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सैलरी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सैलरी 2023, आंगनवाड़ी रिपोर्ट, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सैलरी , आंगनबाड़ी सहायिका के का

How to become anganwadi worker - आगनबाड़ी कार्यकता कैसे बने, आगन बाड़ी भर्ती -2023

आगन बाड़ी भर्ती -2023 - Anganwadi Recruitment -2023

How to become anganwadi worker - आगनबाड़ी कार्यकर्त्ता बनने के लिए इन्छुक उमीदवार महिलाए 2023 में Anganwadi भर्ती के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर आगनबाड़ी कार्यकता बन सकती है इसके लिए यहा आपको सम्पूर्ण जानकारी दी गई है जिसमे आगनबाड़ी कार्यकता कैसे बने, आगन बाड़ी भर्ती - 2023, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की योग्यता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सैलरी, आदि अन्य सभी सवालों के जबाब आपको यहा मिलेंगे |

Anganwadi Karykrta - ग्रामीण क्षेत्रो में आगन बाड़ी में कार्य महिलाओ को रोजगार दिया जाता है जिसमे महिलाओ को सरकारी नौकरी मिलती है और महिलाए छोटे बच्चो को शिक्षा प्रदान करती है सरकार द्वारा मिलने वाले पोष्टिक आहार वितरण करती है आगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से 5 वर्ष तक बे बच्चो को शिक्षा व कई अन्य सुविधा उपलब्ध कराइ जाती है जिसे बच्चे शिक्षित व सुरक्षित रहे आगन बाड़ी केन्द्रों के माध्यम से कई कार्य किए जाते है जिसमे अलग अलग महिलाओ को अलग अलग कार्य दिए जाते है बच्चो के टीकाकरण भी कई स्थानों पर आगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से किए जाते है |

आगन बाड़ी 53000 पदों पर भर्ती 2023

जो महिलाए 8वी व 10वी पास है उनके लिए एक सुनहरा अवसर है आगन बाड़ी कार्यकर्ता बनने का जिसमे वह आवेदन कर यहा सरकारी नौकरी प्राप्त कर सकती है महिलाओ के लिए निकली 53000 पदों पर आगनबाड़ी भर्ती में इन्छुक महिला उमीद ऑनलाइन आवेदन कर सकते है इसके साथ जो महिलाए इस पद की पात्रता को पूरा करती है वह महिलाए अपना फॉर्म भरकर आगनबाडी कार्य करता बन सकती है आगन बाड़ी भारती के लिए रजिस्ट्रेशन करने के लिए wcd.nic.in अधिकारिक वेबसाइट पर Notification पढ़ सकते है व उसके बाद आप इसके लिए अप्लाई कर सकते है 

Anganwadi Helper Bharti - आंगनवाड़ी हेल्पर भर्ती 2023

जैसा हमने आपको पहले बताया आगन बड़ी में अलग अलग पद पर महिलाओ को नौकरी मिलती है जिसमे Anganwadi Helper Bharti में महिलाओ को आगन बाड़ी सहायका के रूप में नौकरी मिलती है इस पद के लिए इच्छुक महिलाए आखरी तारीख से पहले आगन बाड़ी हेल्पर के लिए रजिस्ट्रेशन कर अप्लाई कर सकती है |

Apply And Download App

  1. आंगनबाड़ी सहायिका सीधी भर्ती
  2. संगठन का नाम  - महिला एवं बाल विकास विभाग
  3. भर्ती बोर्ड - डब्लूसीडी
  4. पद का नाम -  सहायिका
  5. कुल वैकेंसी  - 53000 (संभावित पद)
  6. श्रेणी - Sarkari Job
  7. आवेदन प्रक्रिया  - ऑनलाइन
  8. स्थान भारत
  9. पंजीकरण तिथि - जल्द
  10. अंतिम तिथि  - जल्द
  11. भाषा हिंदी
  12. राष्ट्रीयता - भारतीय
  13. आधिकारिक साइट - wcd.nic.in

Information about Anganwadi Salary 2023 - आंगनबाड़ी सैलरी 2023 के बारे में जानकारी

अगर आप जानना चाहते है की आगन बाड़ी में कार्य करने वाली महिलाओ को कितनी सैलरी मिलती है तो यहा आपको आगनबाडी कार्यकता के बारे में आगन बाड़ी कार्यकर्त्ता को सैलरी कितनी मिलती है अन्य जानकारी भी मिलेगी |

  • आर्टिकल में क्या  - आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कि सैलरी 2023 
  • इनके द्वारा शुरू कि गई - भारत सरकार द्वारा
  • कब शुरुआत कि गई - 1975
  • आंगनवाड़ी की नई सैलरी 2023 - 15 से 18 हजार रुपए 
  • अधिकारिक वेबसाइट http://wcd.nic.in/
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए योग्यता - 8 वीं से 10 वीं कक्षा उतीर्ण
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता फॉर्म PDF - Anganwadi Karyakarta Form PDF
  • आंगनबाड़ी सहायका की सैलरी 2023 - 4200 रूपए हर महीने
  • New Update 2023
  • आगन बाड़ी केन्द्रों से मिलने वाली सुविधाए 

    भारत सरकार द्वारा व राज्य सरकारों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रो में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए बा कुपोषित बच्चो को पोषण उपलब्ध कराने के लिए व देश में बढती बिमरोयो से लड़ने के लिए छोटे बचो को कई तरह की सुविधा आगन बाड़ी केन्द्रों के माध्यम से उपलब्ध कराइ जाती है इसमें मुख्य शिक्षा व सुरक्षा है आगन बाड़ी केन्द्रों के माध्यम से मिलने वाली कुछ मुख्य सुविधाओ की सूचि यहा दी गई है |

  • 6 से कम आयु के बालकों का टीकाकरण.
  • नवजात शिशु की व6 वर्ष से कम आयु के बालकों की देखभाल.
  • 3 से 6 वर्ष के बच्चों को विद्यालयी शिक्षा.
  • सभी गर्भवती स्त्रियों के लिए रिश्तो पूर्व सेवाएं व टीकाकरण.
  • बच्चों व गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण के लिए जागरूक करना.
  • 6 वर्ष तक के बच्चों को स्वास्थ्य वातावरण दान करना.
  • आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा बच्चों के खान-पान का ध्यान रखा जाना.
  • बच्चों व माताओं के लिए जो भी सामान आता है उसे घर-घर पहुंचाना.
  • किसी को कुपोषित बच्चे को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करना तथा केंद्र अस्पताल भेजना.
  • 15 से 45 वर्ष के बीच औरतों को स्वास्थ्य शिक्षा का ज्ञान कराना.
  • Documents required to become Anganwadi worker. Anganwadi Salary

    आगन बाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए महिलाओ को क्या क्या दस्तावेज की आवश्यकता होती है इसकी सूचि आप यहा देख सकते है इसमें आपको आगनबाड़ी योजना में नौकरी प्राप्त करने के लिए आपको निम्न दस्तावेज की आवश्यकता होती है जिसके साथ आप आगन बाड़ी कार्यकर्त्ता का फॉर्म भर सकते है |

  • आवेदिका का आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • मैरिज सर्टिफिकेट
  • जाती प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • फ़ोन नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता संख्या (आधार कार्ड से लिंक जरूरी है)
  • 8 पास की अंकतालिका
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • सहायिका पद के कार्य का अनुभव ही इसका प्रमाण पत्र
  • FQAs - Anganbadi Karykrta Kaise bane

    Q - राजस्थान आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सैलरी कितनी होती है 2023 में?

    Ans:- राज्य सरकार की और से इन मानदेय के स्थान पर आंगन बाड़ी कार्य कर्ताओ को 7500 रूपये, और छोटे कर्येकर्ताओ को 5750 रूपये तथा आंगन बाड़ी स्यायको को 4250 रूपये मासिक सैलरी के रूप में दिए जा रहे है. इसके मुताबिक राजस्थान में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का वेतन 15 हजार से 18 हजार तक का हो सकता है.

    Q - बिहार आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सैलरी मिलती है 2023 में?

    Ans:- नीतीश कैबिनेट ने आंगनबाड़ी सेविकाओं का मानदेय 3 हजार रुपए से बढ़ाकर 4500 रुपए प्रतिमाह कर दिया है. सहायक सेविका का मानदेय 2250 रुपए से बढ़ाकर 3500 रुपए और सहायिकाओं का मानदेय 1500 रुपए से बढ़ाकर 2250 रुपए प्रतिमाह कर दिया गया है, इसके अलावा सहायिकाओं को अतिरिक्त राशि के तौर पर 250 रुपए दिए जाएंगे.

    Q- आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को सैलरी एक महीने में कितनी मिलती है?

    Ans:- मध्य प्रदेश के 4.47 लाख कर्मचारियों का डीए 3 फीसदी बढ़ाने के बाद अब सरकार 1.80 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 1500 रुपए बढ़ाने जा रही है. इससे मानदेय 10 हजार से बढ़कर 11,500 रुपए हो जाएगा.

    Q. - आंगनवाड़ी टीचर बनने के लिए क्या करना चाहिए?

    Ans. अगर आप आंगनवाड़ी टीचर बनने की सोच रही हैं, तो आपको सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त स्कूल से हाई स्कूल पास करना होगा| इसके बाद मान्यता प्राप्त स्कूल से इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करनी होगी| इसके बाद मान्यता प्राप्त स्कूल से ग्रेजुएशन पूरा करना होगा| जिसके बाद ही आप आंगनवाड़ी टीचर के लिए आवेदन कर सकती हैं|

    Q -. आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का चयन कौन करता है?

    Ans. - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता चयन प्रक्रिया में मुख्य भूमिका महिला एवं बाल विकास विभाग की होती है| लेकिन आंगनवाड़ी कार्यकर्ता चयन प्रक्रिया में ग्राम सभा का भी काफी योगदान होता है|

    Q. - आंगनवाड़ी टीचर का वेतन कितना है?

    Ans - Anganwadi Teacher/मैडम का वेतन 5500 रुपए से लेकर ₹7000 प्रति माह होती है, लेकिन प्रत्येक राज्यों में आंगनवाड़ी सेविका का वेतन अलग-अलग निर्धारित किया गया है|

    Q. - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है?

    Ans - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को बच्चों को पढ़ाने के लिए कम से कम 6 महीने से 1 साल की ट्रेनिंग दी जाती है|

    Q. आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का काम क्या होता है?

    Ans - 3 से 6 साल के बच्चों को प्रारंभिक शिक्षा, पोषण, स्वास्थ्य प्रदान करना, इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को कुपोषण से बचाने के लिए अच्छे पोषण खाद्य पदार्थ प्रदान करना Anganwadi Karyakarta Ka Kam होता है|

    Q. - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति कैसे होती है?

    Ans - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति मेरिट और इंटरव्यू के आधार पर किया जाता है, मेरिट के आधार पर चयन होने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का इंटरव्यू होता है, इंटरव्यू में 25 अंक निर्धारित किए जाते हैं| 

    Q. आंगनवाड़ी की 6 सेवाएं कौन-कौन सी हैं?

    Ans - आगनवाड़ी के अंतर्गत मूलतः छह प्रकार की सेवाएं दी जाती हैं| पोषण और स्वास्थ्य परामर्श, स्कूल एवं पूर्व शिक्षा, टीकाकरण, स्वास्थ्य जांच और संदर्भ सेवाएं, पूरक पोषाहार 

    Q. आंगनवाड़ी का हेड कौन होता है?

    Ans - जैसा कि आप जानते हैं आंगनवाड़ी के अंतर्गत कार्यकर्ता और सहायिका की नियुक्ति की जाती है| लेकिन आंगनवाड़ी के हेड को आंगनवाड़ी पर्यवेक्षक नियुक्त या मुख्य सेविका कहा जाता है, क्योकि 25 आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए एक आंगनवाड़ी पर्यवेक्षक नियुक्त की जाती है, आंगनवाड़ी पर्यवेक्षक नियुक्त का मुख्य काम आगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकों को कार्य के संबंध में सही मार्गदर्शन प्रदान करना होता है| 

    Q. - आंगनवाड़ी का फुल फॉर्म क्या होता है?

    Ans - आंगनवाड़ी का फुल फॉर्म “आंगन आश्रय” होता है|

    Q. - गर्भवती महिला को आंगनवाड़ी से कितना पैसा मिलता है?

    Ans. - आंगनवाड़ी केंद्र से रजिस्ट्रेशन होने के बाद गर्भवती महिलाओं का प्रसव पूरा होने के बाद ₹5000 प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत तथा ₹1400 जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत इस प्रकार से कुल ₹6500 की धनराशि दी जाती है| 

    Q. - आंगनवाड़ी केंद्र में क्या-क्या सुविधा होनी चाहिए?

    Ans. - आंगनवाड़ी केंद्र के द्वारा गर्भवती महिलाओं और बच्चों को कई विशेष प्रकार की सुविधाएं दी जाती है, जिसकी जानकारी आपको इस आर्टिकल में विस्तार पूर्वक मिल जाएगा|

    Q. - आंगनवाड़ी के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

    Ans - आंगनवाड़ी के अंतर्गत जो महिलाएं आंगनवाड़ी सहायिका और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बनना चाहती हैं, उनकी कम से कम शैक्षिक योग्यता आठवीं पास होनी चाहिए|

    Q .- मैं दिल्ली में आंगनवाड़ी टीचर कैसे बन सकता हूं?

    Ans - अगर आप दिल्ली में आंगनवाड़ी टीचर बनना चाहते हैं, तो आप दिल्ली सरकार द्वारा जारी किया गया वेबसाइट wcddel.in पर जाकर संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

    Q- आंगनवाड़ी का मुख्य उद्देश्य क्या है?

    Ans - आंगनवाड़ी का मुख्य उद्देश्य 0 से 6 साल के बच्चों के पोषण, शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करना होता है| इसके अलावा समाजिक विकास, मां को उचित पोषण, और स्वास्थ्य की शिक्षा देना ही आंगनवाड़ी का मुख्य उद्देश्य हैं| 

    Q. - आंगनबाड़ी में बच्चों के लिए क्या-क्या सामान होता है?

    Ans - आंगनवाड़ी में 3 से 6 साल के बच्चों की शिक्षा के लिए कॉपी किताब, पौष्टिक आहार, स्वास्थ्य संबंधित सेवाएं, इसके अलावा 6 वर्ष से कम बच्चों का टीकाकरण किया जाता है| 

    Q. - आंगनवाड़ी में कितने साल के बच्चे पढ़ते हैं?

    Ans - आंगनवाड़ी में 3 से 5 साल तक के बच्चे पढ़ने जाते हैं|

    Q. - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है?

    Ans - आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को बच्चों के पढ़ाने की ट्रेनिंग 6 महीने से 1 साल की होती है|

    Q. - आंगनवाड़ी में कितने पद होते हैं?

    Ans - आंगनवाड़ी में सुपरवाइजर, सहायक, आंगनवाड़ी वर्कर, का पद होता हैं| 

    Telegram Icon
    Join Our Telegram Group
    Telegram Icon
    Join Our Telegram Group