body{--wp--preset--color--black:#000000;--wp--preset--color--cyan-bluish-gray:#abb8c3;--wp--preset--color--white:#ffffff;--wp--preset--color--pale-pink:#f78da7;--wp--preset--color--vivid-red:#cf2e2e;--wp--preset--color--luminous-vivid-orange:#ff6900;--wp--preset--color--luminous-vivid-amber:#fcb900;--wp--preset--color--light-green-cyan:#7bdcb5;--wp--preset--color--vivid-green-cyan:#00d084;--wp--preset--color--pale-cyan-blue:#8ed1fc;--wp--preset--color--vivid-cyan-blue:#0693e3;--wp--preset--color--vivid-purple:#9b51e0;--wp--preset--color--contrast:var(--contrast);--wp--preset--color--contrast-2:var(--contrast-2);--wp--preset--color--contrast-3:var(--contrast-3);--wp--preset--color--base:var(--base);--wp--preset--color--base-2:var(--base-2);--wp--preset--color--base-3:var(--base-3);--wp--preset--color--accent:var(--accent);--wp--preset--gradient--vivid-cyan-blue-to-vivid-purple:linear-gradient(135deg,rgba(6,147,227,1) 0%,rgb(155,81,224) 100%);--wp--preset--gradient--light-green-cyan-to-vivid-green-cyan:linear-gradient(135deg,rgb(122,220,180) 0%,rgb(0,208,130) 100%);--wp--preset--gradient--luminous-vivid-amber-to-luminous-vivid-orange:linear-gradient(135deg,rgba(252,185,0,1) 0%,rgba(255,105,0,1) 100%);--wp--preset--gradient--luminous-vivid-orange-to-vivid-red:linear-gradient(135deg,rgba(255,105,0,1) 0%,rgb(207,46,46) 100%);--wp--preset--gradient--very-light-gray-to-cyan-bluish-gray:linear-gradient(135deg,rgb(238,238,238) 0%,rgb(169,184,195) 100%);--wp--preset--gradient--cool-to-warm-spectrum:linear-gradient(135deg,rgb(74,234,220) 0%,rgb(151,120,209) 20%,rgb(207,42,186) 40%,rgb(238,44,130) 60%,rgb(251,105,98) 80%,rgb(254,248,76) 100%);--wp--preset--gradient--blush-light-purple:linear-gradient(135deg,rgb(255,206,236) 0%,rgb(152,150,240) 100%);--wp--preset--gradient--blush-bordeaux:linear-gradient(135deg,rgb(254,205,165) 0%,rgb(254,45,45) 50%,rgb(107,0,62) 100%);--wp--preset--gradient--luminous-dusk:linear-gradient(135deg,rgb(255,203,112) 0%,rgb(199,81,192) 50%,rgb(65,88,208) 100%);--wp--preset--gradient--pale-ocean:linear-gradient(135deg,rgb(255,245,203) 0%,rgb(182,227,212) 50%,rgb(51,167,181) 100%);--wp--preset--gradient--electric-grass:linear-gradient(135deg,rgb(202,248,128) 0%,rgb(113,206,126) 100%);--wp--preset--gradient--midnight:linear-gradient(135deg,rgb(2,3,129) 0%,rgb(40,116,252) 100%);--wp--preset--duotone--dark-grayscale:url('#wp-duotone-dark-grayscale');--wp--preset--duotone--grayscale:url('#wp-duotone-grayscale');--wp--preset--duotone--purple-yellow:url('#wp-duotone-purple-yellow');--wp--preset--duotone--blue-red:url('#wp-duotone-blue-red');--wp--preset--duotone--midnight:url('#wp-duotone-midnight');--wp--preset--duotone--magenta-yellow:url('#wp-duotone-magenta-yellow');--wp--preset--duotone--purple-green:url('#wp-duotone-purple-green');--wp--preset--duotone--blue-orange:url('#wp-duotone-blue-orange');--wp--preset--font-size--small:13px;--wp--preset--font-size--medium:20px;--wp--preset--font-size--large:36px;--wp--preset--font-size--x-large:42px;--wp--preset--spacing--20:0.44rem;--wp--preset--spacing--30:0.67rem;--wp--preset--spacing--40:1rem;--wp--preset--spacing--50:1.5rem;--wp--preset--spacing--60:2.25rem;--wp--preset--spacing--70:3.38rem;--wp--preset--spacing--80:5.06rem}:where(.is-layout-flex){gap:0.5em}body .is-layout-flow > .alignleft{float:left;margin-inline-start:0;margin-inline-end:2em}body .is-layout-flow > .alignright{float:right;margin-inline-start:2em;margin-inline-end:0}body .is-layout-flow > .aligncenter{margin-left:auto !important;margin-right:auto !important}body .is-layout-constrained > .alignleft{float:left;margin-inline-start:0;margin-inline-end:2em}body .is-layout-constrained > .alignright{float:right;margin-inline-start:2em;margin-inline-end:0}body .is-layout-constrained > .aligncenter{margin-left:auto !important;margin-right:auto !important}body .is-layout-constrained >:where(:not(.alignleft):not(.alignright):not(.alignfull)){max-width:var(--wp--style--global--content-size);margin-left:auto !important;margin-right:auto !important}body .is-layout-constrained > .alignwide{max-width:var(--wp--style--global--wide-size)}body .is-layout-flex{display:flex}body .is-layout-flex{flex-wrap:wrap;align-items:center}body .is-layout-flex > *{margin:0}:where(.wp-block-columns.is-layout-flex){gap:2em}.has-black-color{color:var(--wp--preset--color--black) !important}.has-cyan-bluish-gray-color{color:var(--wp--preset--color--cyan-bluish-gray) !important}.has-white-color{color:var(--wp--preset--color--white) !important}.has-pale-pink-color{color:var(--wp--preset--color--pale-pink) !important}.has-vivid-red-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-red) !important}.has-luminous-vivid-orange-color{color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-amber-color{color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-amber) !important}.has-light-green-cyan-color{color:var(--wp--preset--color--light-green-cyan) !important}.has-vivid-green-cyan-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-green-cyan) !important}.has-pale-cyan-blue-color{color:var(--wp--preset--color--pale-cyan-blue) !important}.has-vivid-cyan-blue-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-cyan-blue) !important}.has-vivid-purple-color{color:var(--wp--preset--color--vivid-purple) !important}.has-black-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--black) !important}.has-cyan-bluish-gray-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--cyan-bluish-gray) !important}.has-white-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--white) !important}.has-pale-pink-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--pale-pink) !important}.has-vivid-red-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-red) !important}.has-luminous-vivid-orange-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-amber-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-amber) !important}.has-light-green-cyan-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--light-green-cyan) !important}.has-vivid-green-cyan-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-green-cyan) !important}.has-pale-cyan-blue-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--pale-cyan-blue) !important}.has-vivid-cyan-blue-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-cyan-blue) !important}.has-vivid-purple-background-color{background-color:var(--wp--preset--color--vivid-purple) !important}.has-black-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--black) !important}.has-cyan-bluish-gray-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--cyan-bluish-gray) !important}.has-white-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--white) !important}.has-pale-pink-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--pale-pink) !important}.has-vivid-red-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-red) !important}.has-luminous-vivid-orange-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-amber-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--luminous-vivid-amber) !important}.has-light-green-cyan-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--light-green-cyan) !important}.has-vivid-green-cyan-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-green-cyan) !important}.has-pale-cyan-blue-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--pale-cyan-blue) !important}.has-vivid-cyan-blue-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-cyan-blue) !important}.has-vivid-purple-border-color{border-color:var(--wp--preset--color--vivid-purple) !important}.has-vivid-cyan-blue-to-vivid-purple-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--vivid-cyan-blue-to-vivid-purple) !important}.has-light-green-cyan-to-vivid-green-cyan-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--light-green-cyan-to-vivid-green-cyan) !important}.has-luminous-vivid-amber-to-luminous-vivid-orange-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--luminous-vivid-amber-to-luminous-vivid-orange) !important}.has-luminous-vivid-orange-to-vivid-red-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--luminous-vivid-orange-to-vivid-red) !important}.has-very-light-gray-to-cyan-bluish-gray-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--very-light-gray-to-cyan-bluish-gray) !important}.has-cool-to-warm-spectrum-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--cool-to-warm-spectrum) !important}.has-blush-light-purple-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--blush-light-purple) !important}.has-blush-bordeaux-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--blush-bordeaux) !important}.has-luminous-dusk-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--luminous-dusk) !important}.has-pale-ocean-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--pale-ocean) !important}.has-electric-grass-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--electric-grass) !important}.has-midnight-gradient-background{background:var(--wp--preset--gradient--midnight) !important}.has-small-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--small) !important}.has-medium-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--medium) !important}.has-large-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--large) !important}.has-x-large-font-size{font-size:var(--wp--preset--font-size--x-large) !important}.wp-block-navigation a:where(:not(.wp-element-button)){color:inherit}:where(.wp-block-columns.is-layout-flex){gap:2em}.wp-block-pullquote{font-size:1.5em;line-height:1.6} .separate-containers .inside-article>.featured-image{margin-top:0;margin-bottom:2em;display:none}

जनधन खाता खुलवाए ऑनलाइन मिनटों में Jandhan Bank Account Apply Form

Jandhan Yojana, Open Jandhan bank Khata, Online Apply Jandhan Yojana, Jandhan Yojana Apply Form, जनधन खाता खुलवाए ऑनलाइन फॉर्म,

Jandhan Yojana, Open Jandhan bank Khata,

प्रधानमंत्री जन धन योजना Jandhan Bank Account Apply Form

प्रधानमंत्री जन धन योजना की शुरूआत प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी के द्धारा 28 अगस्‍त 2014 को गई थी।

यह एक ऐसी योजना है जिसके तहत देश के ऐसे गरीब लोगो का बैंक में खाता खोला जाता है जो पैसे की कमी के चलते खुद अपना बैंक खाता नही खुलवा सकते है। जनधन योजना (JanDhan Yojna)में गरीब लोग किसी भी राष्‍ट्रीय कृत बैंक और पोस्‍ट ऑफिस में जीरो बैलेंस पर अपना खाता खुलवा सकते है।

Jan Dhan Yojna Latest Update: जैसा कि दोस्‍तो आप सभी को पता है कि आज हमारे देश में कोरोना वायरस की समस्‍या चल रही है। ऐसे में हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने लोगो को इस वायरस के सक्रमण से बचाने हेतु पूरे भारत में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन लगाया हुआ है। इसी कारण हाल में सरकार द्धारा जनधन खाताधारक महिलाओ के लिए एक घोषणा की गई है। जी हां, जिन भी महिलओ का जनधन खाता खुला हुआ है। उन सभी को अगले 3 महीने तक 500-500 रूपये की राशि जन धन खातों में भेजी जाएगी। महिलओ को यह राशि सीधे जनधन खातो में डीबीटी (Direct Beneficiary Transfer) के माध्‍यम से भेजी जाएगी।

इसके अलावा दोस्‍तो जन धन योजना में अंकाउट खुलवाने वाले लोगो को सरकार की ओर कुछ विशेष लाभ भी दिए जाते है जो कि इस प्रकार है:

जनधन खाता खुलवाने के लाभ

जनधन योजना में खाते खाेलने के बाद आपको बहुत से लाभ मिलते है। इस स्‍कीम के तहत खाता
खुलवाने का सबसे बडा फायदा यह होता है कि इस खाते में आप कितने रूपये भी Minimum
Balance रख सकते है। दूसरे बैंको की तरह इसमें मिनिमम बैलेंस की कोई शर्त नही होती है।
इसके अलावा…

  • भारत के किसी भी बैंक में आप इस खाते को खुलवा सकते है।
  • खाता धारक को Rupay Debit Card की सुविधा दी जाती है।
  • अन्‍य बैंको की तरह जमा की गई रकम पर ब्‍याज मिलता है।
  • जनधन योजना के तहत लाभार्थी को 30,000 रूपये का जीवन बीमा की सुविधा दी जाती है।
  • अगर लाभार्थी की किसी दुर्घटना में मृत्‍यू हो जाती है तो उसके परिवार को 1 लाख रू का
    दुर्घटना बीमा दिया जाता है।
  • जनधन खाते को 6 महीने तक सही ढगें से चलाने वाले लाभार्थी को ओवरड्राफ्ट (Overdraft) की सुविधा दी जाती है।
  • ओवरड्राफ्ट का मतलब है कि अगर आपके खाते में जीराे बैंलेस है तो भी आप इस खाते से
    10,000 रूपये की राशि निकलवा सकते हो।
  • इस स्‍कीम में अन्‍य सरकारी लाभ जैसे Pension व Scholarship आदि का फायदा भी ले सकते है।
  • इसके अलावा दोस्‍तो जन धन खाते की मदद से आप पूरे भारत में कही भी आसानी से पैसे
    भेज (Transfer) सकते हो।

Jan Dhan Scheme Important Points

आपको बता दे सरकार की इस योजना का उददेश्‍य देश के गरीब और कमजोर वर्गो के लोगो को
आर्थिक रूप से सशक्‍त बनाना और उन्‍हें वितिय सेवाऐ प्रदान करना है।

  • स्‍कीम के तहत 10 साल के बच्‍चे का भी खाता खुलवाया जा सकता है। लेकिन ऐसा खाता
    अभिभावक की निगरानी में होना चाहिए।
  • प्रति परिवार की महिला के लिए एक खाते पर 5 हजार रू की Overdraft की सुविधा दी जाती है।
  • सरकार की इस स्‍कीम में जितने भी लाभ प्रदान किए जाते है वो सभी सीधे खातेदार के बैंक
    खाते में ट्रांसफर कर दिए जाते है।
  • जनधन खाता सभी बैंकाे में पूरी तरह से फ्री में खोला जाता है।
  • 6 महिने तक सतोंष जनक रूप से खाते को चलाने के बाद ओवरड्राफ्ट की सुविधा दी जाती है।

दोस्‍तो जन धन योजना के तहत खाता खुलवाने के सभी लाभ आपको हमने बता दिए है आइये अब
बात करते है कि यह खाता कैसे खुलवाया जा सकता है और इसके लिए क्‍या-क्‍या दस्‍तावेज चाहिए होगेे।

जनधन खाता खुलवाने के लिए दस्‍तावेजो की सूची Jandhan Account

  1. आधार कार्ड
  2. यदि आधार कार्ड न हो तो वोटर आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पेन कार्ड, पासपोर्ट या नरेगा
    कार्ड में से कोई एक।
  3. अगर उपर बताऐ कार्ड में वर्तमान पता नही है तो पते का स्‍व-प्रमाणित लेटर
  4. पासपोर्ट आकार की फोटो
  5. चालू मोबाइल नबंर

जनधन खाता कैसे खुलवाए ?

दोस्‍तो कोई भी इस योजना के लिए आवेदन कर सकता है। एवं योजना के तहत मिलने वाले सभी लाभो का फायदा उठा सकता है।

आपको बता दे आप अपने नजदीकी किसी भी बैंक में जाकर खाता खुलवा सकते है। इसके लिए आपको अपने सभी दस्‍तावेजो के साथ बैंक में चले जाना है और जनधन खाते का आवदेन फॉर्म बैंक से प्राप्‍त करके भरकर इसे बैंक में जमा करवा देना है।  बैंक कर्मियों द्धारा आपके आवेदन की जाचं करने के बाद आपका जनधन खाता खोल दिया जाएगा। आप चाहे तो जनधन खाते का आवेदन फॉर्म यहा से भी डाउनलोड कर सकते है नीचे फॉर्म की लिंक दे दी गई है। आप वहा से फार्म का डाउनलोड करके अपने दस्‍तावेजो के साथ बैंक में जाकर आसानी से जमा करवा सकते है और इस योजना का लाभ उठा सकते है। साथ ही दोस्‍तो योजना से जुडी अधिक जानकारी के लिए सरकार की अधिकारीक वेबसाइट भी जरूर विजीट करे।

दोस्‍तो अगर आर्टिकल आपको जरा भी पंसद आया हो तो हमें नीचे कमेंट बॉक्‍स में जरूर बताऐ और अपने दोस्‍तो और मिलने वालो के साथ शेयर भी करे।

ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगो तक जनधन योजना की जानकारी पहुच सके और उन्‍हे भी इस
योजना का लाभ मिल सके। धन्‍यवाद

नोनी सुरक्षा योजना ऑनलाइन अप्लाई कैसे करे

Jandhan Bank Account Apply Form

Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana was launched on 28 August 2014 by Prime Minister Narendra Modi.

This is a scheme under which such poor people of the country are opening an account in the bank who cannot open their own bank account due to lack of money. Under Jandhan Yojna, poor people can open their account at zero balance in any nationalized bank and post office.

Jan Dhan Yojna Latest Update: As you all know, the Corona virus problem is going on in our country today. In such a situation, our honorable Prime Minister has put a lockdown for 21 days all over India to protect people from the infection of this virus. For this reason, recently, an announcement has been made by the government for women holders of Jan Dhan account. Yes, all those women whose Jan Dhan account is open. All of them will be sent to the Jan Dhan accounts of 500-500 rupees for the next 3 months. This amount will be sent directly to the Jan Dhan accounts to the women through DBT (Direct Beneficiary Transfer).

Apart from this, some special benefits are also given to the people who open the account under Dosto Jan Dhan Yojana, which are as follows:

Telegram Icon
Join Our Telegram Group
Telegram Icon
Join Our Telegram Group

23 thoughts on “जनधन खाता खुलवाए ऑनलाइन मिनटों में Jandhan Bank Account Apply Form”

  1. मैं जन धन योजना में जीरो बैलेंस का अकाउंट बनाना चाहता हूं कृपया करके मेरा यह कृपया आपकी अति कृपा होगी धन्यवाद

  2. मैं जन धन योजना बैंक जीरो बैलेंस अकाउंट बनवाना चाहता हूं कृपया करके मेरा यह है कृपया आप की आपकी अति कृपया होगी धन्यवाद

Leave a Comment

RECENT