जून माह में 25 हजार किसानो को उपज रहन ऋण योजना से जोड़ने का लक्ष्य,फसल रहन ऋण के लिए 5500 ग्राम सेवा सहकारी समितियों को दी पात्रता

kisan rin mochan yojana, kisan rin mafi yojana, kisan rin mochan yojana last date, kisan rin mochan yojana online form, jai kisan rin mafi yojana,in yojana, किसान रहन ऋण योजना,फसल रहन ऋण

अगर आप किसान है और आप सरकार द्वारा जोड़े जा रहे 25 हजार किसानो को रहन
ऋण योजना में जुड़ना चाहते है आप इसकी सम्पूर्ण जानकारी के लिए इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें

उपज रहन ऋण योजना क्या है:-

दरअसल ये योजना राजस्थान राज्य के किसानो के लिए है उपज रहन ऋण योजना में
उन किसानो को लाभ मिलोएगा जिन्होंने अपने खेत से फसल कि पैदावार तो प्राप्त कर
ली मगर किसी कारण वंस उस फसल को बाजार में नही बेच पा रहा है और उस किसान
को पैसे कि आवश्यकता है लिकिन उपज कि गई फसल को वह बेच पा रहा है ऐसे में
राज्य सरकार कि इस योजना के जरिये उन किसानो को उपज रहन ऋण योजना से
जोड़कर उनके द्वारा किये गये उत्पादन कि फसल पर ऋण दिया जाएगा ताकि वह
किसान अपनी जरूरतों को पूरा कर सके और सही समय या फिर अच्छे भाव मिलने पर
अपनी फसल को बेच कर उस ऋण का भुगतान कर सके सरकार इस योजना को 1 जून
2020 से शुरु करने जा रही है इस yojana में राज्य के 25 हजार किसानो को जोड़ा
जाएगा

ग्राम सेवा सहकारी समिति कम होने कि वजह से:-

राज्य में इस समय ग्राम सेवा सहकारी समिति इस समय कम है जिसके कारण
किसानो को उपज रहन ऋण योजना का लाभ कम मिल रहा है क्योंकि किसान ज्यादा
है और समितियां कम होने कि वजह से किसान इस yojana से वंचित रह जाते है
लेकिन अब राज्य सरकार ने और किसानो को जोड़ने तथा समिति कि कमी को बढाने
के लिए राज्य में 5500 और ग्राम सेवा सहकारी समिति का दायरा बढ़ा रही है जिससे
राज्य के ज्यादा से ज्यादा kisan इसका लाभ ले सके

किसान को कितना ऋण उपज का मिलेगा:-

राज्य के सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव और रजिस्ट्रार नरेश पाल गंगवार ने एक
वीडियो कोंफ्रेश के माध्यम से बताया कि किसानो को उपज कि गई फसल का ऋण 70
फीसदी तक दिया जाएगा यानी जो लघु kisan है उनको उपज कि फसल के हिसाब से
1.50 लाख तक का ऋण तथा बड़े kisano को 3 लाख तक का उपज रहन ऋण दिया
जाएगा उपज ऋण योजना से किसानो को ऋण मिलने के बाद किसान अपनी
तत्कालीन वितीय आवश्यकता को दूर कर सकता है और उसके बाद अपनी फसल का
अच्छा दाम मिलने पर उसे बेचकर उपज ऋण योजना से ली गई राशि का भुगतान कर
सकता है इस yojana से जुड़ने के बाद किसी भी kisan को मजबूरी में अपनी फसल
कम दाम पर नही बेचनी पड़ेगी

समिति कर्मचारियों को को मिलेगा प्रोत्साहन स्कीम का फायदा:-

राज्य सरकार कि इस योजना से किसानो तथा समिति दोनों कि आय में वृदि होगी और
rajasthan के किसानो को 3 फीसदी ब्याज पर उपज रहन ऋण मिलेगा और सरकार
कि और से गंगवार ने बताया है कि जो 5500 नई और पहले से शुरु कि गई समितियों
में अगर कर्मचारी किसानो को सही ढंग से ऋण देते है तथा समिति का सिस्टम सही
ढंग से मेंटेन और ध्यान अच्छी तरह से रखते है तो अपैक्स बैंक द्वारा इन समिति
कार्मिकों को प्रोत्साहन करने के लिए स्कीम भी लागू कि जा सकती है

किसानो को कितना फसली ऋण दिया जा चूका है:-

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दे कि rajasthan state में इस समय किसानो
को उपज रहन ऋण योजना के तहत 4295 करोड़ रूपये का फसली ऋण दिया जा चूका
है राज्य में 1318177 किसानो को ये 4295 किसानो को फसली ऋण दिया गया है
इसके योजना के अंतर्गत जिन जिलो के किसानो को ऋण दिया गया है

कुछ जिलो के किसानो ने इस योजना से नाराजगी भी व्यक्त कि है:-

राजस्थान राज्य कि उपज ऋण योजना से राज्य के लगभग 13 लाख 18 हजार 177
kisan लाभान्वित तो हुए है मगर कुछ किसान इस योजना से नाराज भी है क्योंकि
कुछ जिलो में इस योजना का काम धीमी गति से किया जा रहा है जिसके कारण
kisan इसका लाभ नही ले पा रहे है गंगवार ने बताया है कि जिन जिलो में उपज रहन
ऋण योजना का कार्य धीमी गति से किया जा रहा है उनको जल्द हि फसल ऋण दिया
जाएगा

  • भरतपुर
  • जैसलमेर
  • जालोर
  • हनुमानगढ़
  • भरतपुर
  • बारा
  • सिरोही

Leave a Comment