कृषि इनपुट अनुदान योजना ऑनलाइन पंजीयन~Online Application Form

krishi input anudan yojana check | krishi input anudan yojana last date | कृषि इनपुट अनुदान योजना ऑनलाइन पंजीयन | krishi input anudan yojana 2020 status | krishi input anudan kya hai

आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बतायेगे कि कृषि इनपुट अनुदान योजना कि सुरुआत बिहार राज्य के किसानो को लाभ पहुचाने के लिए कि गई है इस योजना का लाभ राज्य के उन किसानो को दिया जाएगा जिनकी फसल का नुकसान प्राक्रतिक आपदा के कारण हुआ हो ऐसे किसानो को सरकार कि और 13500 रूपये कि सहायता राशि अनुदादं के रूप में दी जायेगी अगर आप भी इस योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन पंजीयन करना चाहते है तो आइये जानते है इस योजना के बारे में विस्तार से जानकारी

कृषि इनपुट अनुदान योजना ऑनलाइन पंजीयन~Online Application Form

कृषि इनपुट अनुदान योजना (Krishi Input Anudan Yojana):-

आज हम आपको बताने जा रहे है कि बिहार सरकार के तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री नितिंश कुमार यादव ने इस योजना कि सुरुआत कि है इस योजना का लाभ राज्य के ऐसे किसानो को मिलने वाला है जिनको प्राक्रतिक आपदा के कारण फसलों का नुकसान झेलना पड़ा है ऐसे किसानो को सरकार कि और से अनुदान राशि प्रदान कि जायेगी ताकि किसानो कि कमजोर आर्थिक स्तिथि को सुधारा जा सके प्राक्रतिक आपदा में जैसे-बाढ़,अत्यधिक वर्षा,भू स्खलन आदि के कारण बहुत से किसानो कि फसल चोपट हो गई है जिसके कारण किसान कि आर्थिक स्तिथि और अधिक कमजोर हो गई है

ऐसे किसानो को राज्य सरकार कि और से असिंचित क्षेत्र के किसानो को 6800 रूपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से सहायता राशि प्रदान कि जायेगी और जिन किसानो कि जमीन में सिंचाई होती है उनको 13500 रूपये कि आर्थिक सहायता राशि अनुदान के रूप में दी जायेगी और जिन किसानो कि जमीन क्रषि योग्य है और जिनमे बालू मिट्टी का जमाव 3 इंच तक है उनको भी इस योजना के जरिये 12200 रूपये कि अनुदान राशि प्रदान कि जायेगी ताकि हर उस किसान को इस योजना का लाभ मिले जिनकी फसलों का नुकसान हुआ है जैसा कि आप सभी जानते है हमारा देश कृषि प्रधान देश है मगर पिछले कुछ सालों से किसानो को फसल का अधिक उत्पादन नही होने के कारण उनकी आर्थिक स्तिथि चरमरा गई है

बिहार सरकार कि योजनाओं कि सूचि के लिए:-

YojanaKrishi Input Anudan Yojana
LocationBihar
Yojana TypeKisan Yojana
Official Websitehttps://dbtagriculture.bihar.gov.in/
Update2020-21

ऐसे में कुछ किसानो कि कृषि कार्यो में रूचि कम होती जा रही है और राज्य सरकार चाहती है कि किसानो को इस योजना से जोड़ कर उन्हें कृषि कार्यों में रूचि से रूचि दिलाई जाए अगर आप भी इस योजना का लाभ लेने के लिए पंजीयन करना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक पूरा पढ़े ताकि आपको इसके पंजीयन कि सही जानकारी मिल सके

इस तरीके से दिया जाएगा योजना का लाभ:-

1.असिंचित क्षेत्र के किसानो को 6800 रुपयेप्रति हेक्टेयर 
2.सिंचित क्षेत्र के किसानो को 13500c रूपयेप्रति हेक्टेयर
3.कृषि योग्य भूमि (बालू मिट्टी का जमाव 3 इंच तक)12200 रूपयेप्रति हेक्टेयर

कृषि इनपुट अनुदान योजना का मुख्य उदेश्य क्या है?

बिहार सरकार कि इस कृषि इनपुट अनुदान योजना का मुख्य उदेश्य है कि राज्य में हर उस किसान को इस योजना का लाभ दिया जाए जिसकी फसलें प्राक्रतिक आपदा से खराब हो गई है ऐसे किसानो को सरकार की ओर से 13500 रूपये कि सहायता राशि अनुदान के रूप में दी जायेगी जैसा कि आप सभी जानते है हर साल किसानो को किसी न किसी प्राक्रतिक आपदा के कारण बहुत नुकसान हो जाता है

जिसके कारण उसकी पूरी फसल बर्बाद हो जाती है और ऐसे में किसान बैंक से करही कार्यों के लिए ऋण को नही चुका पाते है और मजबूरन किसानो को आत्महत्या करणी पडती है और बहुत से किसान खेती करना भी छोड़ रहे है ऐसे में सरकार कि और से इस योजना कि सुरुआत कि गई है ताकि किसानो को इस योजना के तहत फसल के नुकसान पर अनुदान राशि दी जाए ताकि उनकी खेती में रूचि बनी रहे और राज्य में भी कृषि कार्यों को बढ़ावा मिले

योजना में इन जिलों का चयन किया गया है:-

बिहार राज्य के जिन जिलों के किसानो को प्राक्रतिक आपदा के कारण फसल का नुकसान हुआ है उनमे जो जिले शामिल किये गये है वि इस प्रकार है 

  1. किशनगंज
  2. बांका
  3. गया
  4. भागलपुर
  5. अरवल नवादा
  6. मधेपुर
  7. पटना
  8. भोजपुर
  9. बक्क्सर
  10. नालंदा
  11. ओरंगाबाद
  12. दर्बंगा
  13. समस्तीपुर
  14. मुंगेर
  15. पश्चिमी चम्पारण
  16. गोपालगंज
  17. मुजफरपुर
  18. रोहतास
  19. लखीसराय
  20. भभुआ
  21. शेखपुरा
  22. जहानाबाद

किसान योजना – KISAN YOJANA अब तक का सबसे बड़ा एलान,जरुर पढिये

कृषि इनपुट अनुदान योजना से होने वाले फायदे:-

बिहार सरकार कि इस योजना से राज्य के किसानो को होने वाले फायदे निम्न प्रकार है आइये जानते है होने वाले फायदों के बारे में 

  1. राज्य सरकार कि और से जिन जिलों में सुखा या फिर अत्यधिक वर्षा घोषित कर दी जाती है उन जिलों के किसानो को आर्थिक सहायता राशि दी जायेगी
  2. सरकार कि और से दी जाने वाली धनराशी किसान के बैंक खाते में भेज दी जायेगी 
  3. असिंचित क्षेत्र के किसानों को 6800 रूपये  अनुदान राशि प्रदान कि जा रही है
  4. सिंचित क्षेत्र के किसानो को 13500 रूपये का फायदा होगा
  5. और जिन किसानो कि जमीन क्रषि लायक है मगर उनमे बालू मिट्टी का जमाव 3 इंच तक है तो उन किसानों को भी इस योजना के तहत 12200 रूपये कि अनुदान राशि का फायदा होगा 
  6. किसानो कि आर्थिक स्तिथि में सुधार आयेगा 

किसान योजना के लिए बड़ी खबर kisan yojana News Live Update

कृषि इनपुट अनुदान योजना के ऑनलाइन पंजीयन के लिए आवश्यक दस्तावेज;-

यदि आप भी इस योजना का लाभ लेने के लिए पंजीयन करना चाहते है तो आपको इसके पंजीयन केलिए निम्न प्रकार के दस्तावेजों कि जरूरत पड़ेगी

  • किसान का आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • बैंक खाता संख्या
  • किसान कि खुद कि जमीन के दस्तावेज जैसे जमाबंदी,नक्सा 
  • राशन कार्ड
  • मोबाइल नंबर

यहा क्लिक करे:-

कृषि इनपुट अनुदान योजना का ऑनलाइन पंजीयन किस प्रकार होगा?

अगर आप भी इस योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन पंजीयन करना चाहते है तो हमारे द्वारा बताये गये स्टेपों को फोलो करे

  • सबसे पहले आपको इस योजना कि आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा जिसके बाद आपके सामने इसका मुख्य पेज ओपन हो जाएगा https://dbtagriculture.bihar.gov.in/
  • अब आपको इस पेज में कृषि इनपुट अनुदान के ऑप्शन पर क्लिक करना है जिसके बाद इसका दूसरा पेज ओपन हो जाएगा
  • इस पेज में आपको पंजीकरण संख्या भरनी है फिर आपको इसके निचे दिए गये Search पर क्लिक करना है 
  • अब आपके सामने एक फॉर्म ओपन हो जाएगा जिसमे आपको पूछी गई जानकारी को सही सही भरना है 
  • फिर आपको आगे के पेज में कितने हेक्टेयर में नुक्सान हुआ है इसकी जानकारी और नुकसान किस कारण हुआ है ये भरना है
  • इसके बाद आपको अपने मोबाइल नंबर डालने है और ओके करना है
  • अब आपके मोबाइल नंबर पर एक OTP आयेगा उस OTP को पंजीयन फॉर्म में भरना है 
  • इसके बाद आपको बताये गये दस्तावेजों को अपलोड करना है 
  • फिर आपको इसके निचे दिए गये Submit के ऑप्शन पर क्लिक करना है और आपका ऑनलाइन पंजीयन हो जाएगा

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.