Liver Diseases caused by Hepatitis-हेपेटाइटिस के कारण व लक्षण

Liver Diseases caused by Hepatitis-हेपेटाइटिस मुख्य रूप से लिवर की बीमारी
है जो एक से अधिक प्रकार के वायरल इन्फेक्सन कारण होती है हेपेटाइटिस मुख्य रूप
से तो पाच प्रकार के वाइरस के कारण होती है जैसे -a,b,c,d ओर e होते है इनमे भी
मुख्य रूप से बी ओर सी वाइरस ही अधिक लोगो मे hepatitis होने का कारण पाया
जाता है वेसे भी ये ज्यादा खतरनाक होते है क्यो की इनसे संक्रमित होने पर लिवर
सिरोसिस होने का खतरा ओर ज्यादा बढ़ जाता है लिवर सिरोसिस मे लिवर के ऊपर की
त्वचा रूखी सुखी व बेकार होने लग जाती है !

Hepatitis के कारण –

Hepatitis मुख्य रूप से पाँच प्रकार के वाइरस के कारण होता है इसमे ये वाइरस -ए ,बी ,सी
डी ओर ई hepatitis होने का मुख्य कारण बनते है इनको स्वछता अपनाकर भी कुछ हद
तक रोका जा सकता है

Hepatitis -A- इसका अशुद्ध भोजन व अशुद्ध पानी के सेवन करने से इसके होने का खतरा
बन जाता है इसलिय शुद्ध खाद्य पदार्थो का सेवन करे ! Hepatitis-B-यह संक्रमित खून एक से दूसरे व्यक्ति मे चढ़ाने के साथ साथ संक्रमित
सिमन आदि से फेलने का खतरा बना रहता है !

Hepatitis -C-यह भी संक्रमित के उपयोग से व संक्रमित इंजेक्सन के उपयोग से इसकेफेलने का खतरा बन जाता है ! Hepatitis -D- जो लोग हेपेटाइटिस बी से संक्रमित होते है उनमे हेपेटाइटिस डी होने का खतरा भी बढ़ जाता है !

Hepatitis -E-इसके भी होने का खतरा एक प्रकार से संक्रमित खान पान ही होता है एक्यूट
हेपेटाइटिस -इसमे लीवर मे सूजन आ जाती है व कुछ समय बाद धीरे धीरे ठीक होने लग
जाता है यह ज्यादा खतरनाक नही होता है क्रोनिकहेपेटाइटिस -इसमे लीवर सिरोसिस व कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होने का खतरा
बढ़जाता है लीवर सिरोसिस मे लीवर की त्वचा रूखी सुखी व खुरदरी होने लग जाती है !

Hepatitis के लक्षण –

Hepatitis हो जाने पर शुरुआती अवस्था मे कुछ खास पता बिना चैकप के नही चल पता है
लेकिन बाद मे धीरे धीरे शारीरिक लक्षणो के कारण पता लगने लग जाता है एक्यूट अवस्था
मे यह ज्यादा प्रभावशाली नही होता है लेकिन बाद मे यह क्रोनिक अवस्था मे पहुच जाता है
जो बहुत खतरनाक होता है

Hepatitis के लक्षण कुछ इस प्रकार प्रदर्शित होते है जैसे -इसका समन्ध लीवर से होता है
लीवर मे दो वर्णक स्त्रवित होते है बिलरूबिन जो पीले रग का होता है ओर विलिवर्डीन जो हरे
रग का वर्णक होता है लीवर प्रभावित होने के कारण यह बिलरूबिन को शरीर से बाहर नही
निकाल पता है जिस कारण Jaundice (पीलिया) के लक्षण परदर्शित होने लग जाते है

इसके साथ साथ पेट मे भयकर दर्द होने लग जाता है ,उल्टिया होने लग जाती है ,लीवर मे
सूजन ललाई उत्पन हो जाती है ,वजन घटने लग जाता है ,भूख कम लगती है ,त्वचा
समन्धित बीमारिया भी होने लग जाती है जैसे-खुजली आदि ,अत्यधिक थकान होने लग
जाती है ,पीलिया के कारण आंखे त्वचा व हथेलिया आदि पीली पड़ जाती है इसके साथ मूत्र
का रंग भी पीला दिखाई देने लग जाता है !

Muh ki badbu ko dur karna-इसके कारण व घरेलू उपाय

Hepatitis का उपचार व बचाव

Hepatitis से संक्रमित होने पर किसी अच्छे चिकित्सक (उदर रोग विशेषज्ञय )से
अपना इलाज करवाए शुद्ध व स्वच्छ भोजन ओर पानी का सेवन करे स्वच्छता को अपनाए !

TB (Tuberculosi) Disease-से परेशान क्यो जाने कारण ,लक्षण ,उपाय

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.