किसानो की ‘कर्जमाफी’ को लेकर शिवराज ने दिया ये बड़ा बयान

किसान कर्जमाफ़ी,kisan karj mafi mp 2020,कर्जमाफी कब होगी,kisan karj mafi mp news,कर्जमाफी किन किन कि होगी,kisan karj
mafi mp news today,किसान कर्जमाफी कि जानकारी,किसान,mp kisan karj mafi current news,किसान कर्जमाफी कि लिस्ट,kisan
karz mafi mamp kisan karj mafi jankari,dhya pradesh
date,किसान कर्जमाफी क्या है,kisan karz mafi madhya pradesh list download,कर्जमाफी

किसानो की 'कर्जमाफी' को लेकर   शिवराज ने दिया ये बड़ा बयान

आज हम आपको इस आर्टिकल में बातेयेगे कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह
चोहान ने किसानो कि कर्जमाफी को लेकर एक बड़ा बयान दिया है जिसकी जानकारी
के लिए आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़े

mp kisan karj mafi:-

इस बार मध्यप्रदेश राज्य कि सत्ता में एक अजीब सा नजारा देखने को मिला राज्य के
पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ(Kamalnath)जी कि Sarkar सिर्फ 15 महीने हि चल
पाई और शिवराज सिंह कि सता में वापसी हो गई लेकिन शिवराज सिंह के सत्ता में
आने के बाद से हि राज्य में एक सवाल चर्चा का कारण बन गया

कि जो कमलनाथ कि
सरकार ने मध्यप्रदेश राज्य के किसानो का Karja माफ़ करने का एलान किया था
उसका अब क्या होगा क्या शिवराज सिंह कि Sarkar राज्य के किसानो(Farmers) का
कर्जा माफ़ करेगी या नही ये बाते 2 महीने से मध्यप्रदेश राज्य में हो रही थी

YojanaKarjmafi Yojana
LocationAll MP
Yojana TypeKisan Yojana
Official Websitehttps://kisankrjmaafi.gov.in/

मगर इस बात का संसय मिटाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने 2 के बाद किसानो
कि कर्जमाफी को लेकर बड़ा बयान दिया है उन्होंने कहा है कि राज्य में बीजेपी(BJP)
कि Sarkar किसानो के हित में काम करेगी कमलनाथ कि सरकार ने किसानो को
कर्जामाफी के नाम पर धोखा दिया है

शिवराज सिंह ने ये भी बताया कि कोंग्रेस कि
सरकार ने किसानो कि Karjmaafi के नाम पर सिर्फ 6 हजार करोड़ रूपये दिए लेकिन
हम किसानो कि कर्जमाफी इस प्रकार करेगे कि इसकी राशि किसानो के सीधे Account में
भेजी जायेगी इस पर सरकार का मंथन चल रहा है

शिवराज सरकार ने कोंग्रेस सरकार पर लगाया आरोप:-

मुख्यमंत्री शिराज सिंह चोहान हे कमलनाथ कि Sarkar पर गेंहू कि कम खरीदी का भी
आरोप लगाया उन्होंने कहा कि पिछले साल राज्य में कोंग्रेस कि सरकार ने किसानो से
गेंहू कि खरीद सिर्फ 60 हजार मी. टन हि कि जिससे बहुत से ऐसे Kisan है जो अपनी
गेंहू को Sarkar के समर्थन मूल्य पर नही बेच पाए अगर BJP सरकार ने इस वर्ष
किसानो के हित में सोच कर 1.30 लाख मी. टन गेंहू कि खरीदी कि है शिवराज सिंह ने कहा है

कि राज्य में एसी गेंहू खरीदी इतिहास में पहली बार हुई है और गेंहू कि खरीदी का आगे भी ध्यान रखा जाएगा किसी भी किसान](Farmer) को अपनी गेंहू को बाजार में बेचने के लिए परेशान नही होना पड़ेगा क्योंकि हर साल किसानो कि गेंहू मंडियों में जल्दी से नही बिक पाती है जिसके कारण उनकी Fasal मंडी में पड़ी पड़ी खराब होने लगती है लेकिन अब BJP Sarkar में एसा नही होगा किसानो कि कर्जमाफी के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे है

LIC कि बचत पॉलिसी:रोजाना 27 रूपये का निवेश आपको दिलाएगा 2 लाख 30 हजार रूपये,जाने क्या है ये प्लान

शिवराज सिंह ने कोंग्रेस के हर सवालों का दिया जवाब:-

ये बात तो आम है कि जब भी किसी राज्य में नई सरकार आती है तो वह पिछली
Sarkar के बारे में काफी गलतियाँ निकालती है और ऐसे हि कमलनाथ कि सरकार के
पतन के बाद कोंग्रेस सरकार ने शिवराज सरकार से काफी सवालों के जावब मागे
जिसका जवाब शिवराज सिंह (shivraj singh) ने 2 महीने बाद दे दिया

उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी आज हम पर सवाल उठा रहे है लेकिन वो ये नही सोच रहे है कि जब में मुख्यमंत्री तब तक तो कोरोना संकट Covid-19 ने इन्दोर को अपने कब्जे में लिया था

अगर कमलनाथ कि सरकार ने पहले हि इस कोरोना Covid-19 मामले में गम्भीरता दिखाई होती तो आज राज्य में ये नोबत न आती वो कोरोना वायरस में कम ध्यान देकर आइफा
आयोजन के बारे में अधिक सोच रहे थे शिवराज सिंह ने ये भी कहा कि कमलनाथ कि
सरकार के समय में कोरोना जांच कि कोई ऐसे ठोस सुविधा नही थी

उनके पास कोई अधिक जाच लेब नही थी मगर हमारी सरकार ने कोरोना से निपटने के लिए 19 लैबों को शुरु कर दिया आज जो राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले बड रहे है उसके
जिम्मेदार कोंग्रेस कि सरकार है लेकिन हमारी Sarkar इस पर सही डंग से कार्य कर रही है

राजस्थान मुख्यमंत्री जन आवास योजना |ऑनलाइन आवेदन| एप्लीकेशन फॉर्म

सिंधिया कि भी सराहना कि:-

शिवराज सिंह (shivraj singh) ने ज्योतिरादितीय सिंधिया कि भी सराहना कि और
कमलनाथ कि सरकार पर आरोप लगाया कि कोंग्रेस कि सरकार में विधायकों को अपने
निचे दबा कर रखा जाता था जब विधायक मुख्यमंत्री से मिलने जाते थे तो उन्हें मिलने
नही दिया जाता और जो दलाल है

वो सीधा मुख्यमंत्री आवास में उनसे मिलने जाते थे
विधायको का इनकी सरकार में शोषण होता था और सिंधिया ने किसानो कि कर्जमाफ़ी
को लेकर मुख्यमंत्री जी से बात भी कि लेकिन इसका कोई हल नही निकला इस पर
सिंधिया ने कोंग्रेस के खिलाफ किसानो के लिए आवाज उठाई और अपने पद से
त्यागपत्र दे दिया म उनको धन्यवाद देता हु

Leave a Comment