प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना:(PMFBY) के दायरे में कोनसी खेती आती है, इस प्रकार जाने

PMFBY के दायरे में कोनसी खेती आती इसकी जानकारी हम आपको इस प्रकार बतायेगे:-

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना: (PMFBY) के दायरे में कोनसी खेती आती है, इस प्रकार जाने

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना क्या है:-

आज हम आपको बतायेगे कि प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना क्या है इस योजना कि
सुरुआत 13 जनवरी 2016 में कि गई थी इस योजना का उदेश्ये यह कि किसानो को हर साल फसल का नुकसान होने के कारण उनकी आर्थिक स्तिति कमजोर हो जाती है तो क्योंकि हर साल या तो अधिक बरसात के कारण या फिर सुखा पड़ने के कारण किसानो को बहुत नुकसान हो जाता है

हमारे देश को क्रषि प्रधान देश कहा जाता है और किसान को अन्दाता कहा जाता है किसानो को हर साल प्राक्रतिक आपदाओं का काफी सामना करना पड़ता है कभी तेज ओले गिर जाते है तो कभी तेज बारिस हो जाती है इस कारण किसानो को इस नुकसान से राहत देने के लिए केंद्र सरकार ने इस्योजना कि सुरुआत 13.1.2016 में कि

इस योजना से हमारे देश में काफी किसान जुड़ चुके है और उको हर साल होने वाले
नुक्सान से केंद्र सरकार कि तरफ से मुआवजा मिल रहा इस योजना में किसान को
मिलने वाली फसल बिमा रासी सीधे उनके खातो में भेजी जाती है यह रासी किसान जब
चाहे अपनी आवश्कता के अनुसार निकाल सकता है

(PMFBY) में किसान को कितना प्रिमियम भरना होता है:-

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना में किसान को अपनी फसल कि बुआई के हिसाब से
प्रीमियम भरना होता है प्रीमियम के अनुसार हि उनको बिमा का पैसा मिलता है

  • खरीफ कि फसल के लिए 2 फीसदी तक का भुगतान किसान को करना होता है
  • और रबी कि फसल के लिए 1.5 फीसदी का भुगतान करना होता है

देखा जाए ये प्रीमियम बहुत हि थोड़ी सख्या में है केंद्र सरकार ने किसानो कि फसलो को
खराब होने के कारण फसल बिमा सुरक्षा प्रीमियम बहुत कम रखा है AIC इस बिमा
कम्पनी इस योजना को चलाती है साथ हि सरकार ने बागवानी करने वाले किसानो को
भी फसल बिमा सुरक्षा का मोका दिया है इसमें बागवानी करने वाले किसान को हर
साल 5 फीसदी बीमा प्रिमियम भरना होता है

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना का उदेश्य:-

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना का मुख्य उदेश्य किसानो को हर साल होने वाले फसलों
के नुकसान कि भरपाई करना है क्योंकि किसानो कि पूरी जिन्दगी खेती से जुडी हुई है
देश के लगभग किसानो ने अपनी खेती पर बेंक से लोन ले रखा है और हर साल
प्राक्रतिक आपदाओं के कारण उनकी फसल का नुक्सान हो जाता है उर वो लोग बेंको
का लोन नही चूका पाते है और कुछ किसानो को तो आत्महत्या तक करनी पड़ जाती है

  • PMFBY का मुख्य उदेश्य है कि प्राक्रतिक आपदाओं के कारण कुछ किसान खेती करना बंद
    कर रहे है इस योजना के लाभ से किसानो कि रूचि क्रषि पर बनी रहेगी
  • साथ हि इस योजना से किसानों को क्रषि क्षेत्र में बेंको से लोन लेने में काफी आसानी होगी
  • इस योजना में किसानो को आज के युग के हिसाब से जैसे वैज्ञानिक पद्दति से क्रषि करने के
    लिए प्रोत्शाहित किया जाता है
  • इस योजना के अंतर्गत किसानो को कभी कभी फसलों में अनेक प्रकार के कीड़े लगना
    फसलो में कोई और प्रकार का रोग लग जाने के कारण उन्हें सरकार से बीमा कवर दिया जाता है
  • इसमें किसान कि फसल के नुकसान कि भरपाई करना होता है

PMFBY का आवेदन किस प्रकार करे:-

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना का फॉर्म भरना किसान के उपर निर्भर करता है अगर
उसे यह फॉर्म ऑनलाइन भरना है तो वह अपने नजदीकी ऑनलाइन दुकान पर जा
सकता है या फिर ऑफलाईन भरने के लिए बेंक में जाकर के फॉर्म भरना पड़ेगा

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना के आवेदन में क्या क्या दस्तावेज लगेगे:-

किसान कि एक फोटो, खेत कि जमाबंदी, आईडी कार्ड-आधार कार्ड,पेनकार्ड,रद चेक
आदि,और पटवारी द्वारा ये बभी लिखवाना अनिवार्य है फसल कि बुवाई हुई है

महत्वपूर्ण बातें:-

किसान को इस बात का विशेस ध्यान रखना होगा कि प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना
(PMFBY) का फॉर्म फसल कि बुवाई के 15 दिनों के अन्दर भरा जाए अगर आपकी
फसल कि कटाई चल रही है और प्राक्रतिक आपदा से नुकसान हो जाये तो भी आप
फॉर्म भर सकते है इस योजना का लाभ तभी मिलेगा जब आपकी फसल का नुकसान
सच में हुआ हो क्योंकि सरकार इस बात कि पूरी तहकीकात करेगी

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना 2020-21: जाने क्या है

Leave a Comment

Your email address will not be published.