Advertisement
Categories
UTTARPRADESH SARKARI YOJANA

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना पंजीयन Utaradhikar Varasat Abhiyan

Advertisement

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना, Uttaradhikar Abhiyan in Hindi, Utradhikar Abhiyan, Varasat Yojana Online Apply, उत्तराधिकार वरासत योजना उत्तर प्रदेश, Uttradhikar Abhiyan Offline Apply Process,

उत्तराधिकार वरासत योजना उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना : UP CM योगी आदित्यनाथ द्वारा तहसील दिवस पर गांव में जमीनों से जुड़े अभिलेखों को लिखित रूप से दर्ज कराने के लिये 15 दिसंबर 2020 से विशेष अभियान शुरू किया था | इस अभियान के तहत राज्य में तहसील दिवस पर भूमि विवाद से जुड़े मामले का निपटारा करने के लिए शुरू किया है | जमीन विवादों में दोंनो विवादित पक्ष अपने अपने दावे विवादस्पद भूमि के लिए पेश करते हैं लेकिन असली हक़दार या उतराधिकारी का पता नहीं चलने के कारण ये विवाद सुलझने में बहुत समय लग जाता है| इस वरासत अभियान के तहत उतराधिकारी का पता लगाया जायेगा

Advertisement

अतः इस अभियान को उत्तराधिकार वरासत योजना भी कहते हैं| इस आर्टिकल में हम आपको उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन तथा अन्य जरुरी जानकारी बताएँगे| आएये जानते हैं क्या है- Utaradhikar Varasat Abhiyan यूपी सरकार द्वारा राज्य में हर श्रेणी के छोटे-मोटे जमीनी विवादों को निपटने के उद्देश्य से उत्तराधिकार / वरासत अभियान उत्तर प्रदेश शुरू किया गया है| यह वरासत अभियान जनता के हित में लागु किया है| अब राज्य के हर नागरिक को उसकी जमीन का पट्टा दिया जायेगा तथा उसको अपनी पैत्रिक या अधिकारिक जमीन का पूर्ण अधिकार दिया जायेगा|

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना क्या है?

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा यूपी वरसात अभियान शुरू किया गया है। इस अभियान का दूसरा नाम उत्तराधिकारी अभियान भी है यूपी वारसैट अभियान वर्तमान में भूमि या संपत्ति रिकॉर्ड को अपडेट करने के लिए चलाया जा रहा है।इस अभियान के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि संबंधी मुद्दों को सुलझाया जायेगा। यदि आपके पास भी कोई विवादास्पद जमीन है तो इसको उत्तराधिकार वरासत योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करके सुलझा सकते हैं|वरासत अभियान के तहत प्रदेश के एक लाख आठ हजार राजस्व गांवों में कई सालों से अटके हुए वरासत के मामलों को निपटाया जायेगा |

त्तराधिकार वरासत योजना सॉर्ट में

अभियान का नामउत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना
राज्यउत्तरप्रदेश
विभागराजस्व विभाग, उत्तरप्रदेश
शुरुआत15 दिसंबर 2020
शुरुआत कर्तासीएम योगी आदित्यनाथ
अभियान का समय15 दिसंबर 2020 से 15 फरवरी 2021
उद्देश्यराज्य के राजस्व गांवों की जमीनों के विवादों को निपटाना
लाभार्थीउत्तरप्रदेश के मूल निवासी
ऑफिसियल पोर्टलhttp://vaad.up.nic.in/

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना मुख्य

उत्तराधिकार वरासत योजना कि जानकारी उत्तरप्रदेश CM योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करके जानकारी देते हुए Twitte किया उत्तराधिकार वरासत योजना के लिए जनता का साथ मिल रहा है| वर्तमान में राजस्व विभाग को महज 08 दिन में ही 1,35,686 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं| हालाँकि यह अभियान 15 दिसंबर 2020 से शुरू किया गया था और 15 फरवरी 2021 तक चलेगा|

Advertisement

उत्तर प्रदेश में चल रहे वरासत अभियान को मिल रहा जनता का साथ। राजस्व विभाग को महज 08 में ही 1,35,686 आवेदन प्राप्त हुए। #काम_दमदार_योगी_सरकार pic.twitter.com/iEAq0sUAdm

— Government of UP (@UPGovt) December 26, 2020

Advertisement

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना ऑफलाइन आवेदन

राजस्व विभाग तहसील अधिकारियों द्वारा इस अभियान के तहत लेखपालों को आदेश दिए गए है| अक्षर देखा जाये तो लेखपाल भूमि से सम्बंधित विवादों को सुलझाने के लिए जिम्मेदार होते हैं लेकिन कभी कभार उनके द्वारा भी अनदेखी की जाती है और इसके चलते नागरिकों को परेशान होना पड़ता है इस योजना से जमीन से जुड़े सभी मामले ख़त्म कर दिए जायंगे जिससे नागरिको व सरकार दोनों को सहूलियत मिलेगी |

कठिनाई और प्रयासों के बाद भी उनका नाम सरकारी दस्तावेजों में दर्ज नहीं हो पाता था | इस अभियान के शुरू करने के बाद उनका कार्य भी सटीकता से देखा जायेगा और राज्य के नागरिकों को कार्यालय के चक्कर काटने से छुटकारा मिलेगा | वरासत अभियान के तहत लेखपाल ग्राम के अनुसार बनाकर सर्वे करके वरासत हेतु एप्लीकेशन प्राप्त कर उन्हें ऑनलाइन भरने की कार्रवाई करेंगे। राज्य में हर तहसील स्तर पर एक काउंटर खोला गया है ताकि लोगों लो परेशानी न हो|

एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक लोन अप्लाई

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना निरीक्षक लोग इन प्रक्रिया

राज्य सरकार ने भू-अभिलेखों को अपडेट करने के लिए शासन को पूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है | अब वरासत दर्ज कराने के लिए लोगों को भागदौड़ नहीं करनी होगी खुद राजस्व विभाग ये कार्य करेगा | उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना के तहत उत्तराधिकारी की जाँच के लिए दो प्रकार के समीक्षा अधिकारी न्युक्त किये गए हैं- लेखपाल तथा राजस्व अधिकारी |

उत्तराधिकार योजना में खतौनी में नाम पंजीकृत करना

उत्तरप्रदेश राज्य के नए उत्तराधिकारी अभियान के साथ, ग्रामीणों का किसी भी स्तर पर शोषण नहीं होगा। लोग अब अपने घर बैठे ही जमीन के रिकॉर्ड (खतौनी) में अपना नाम दर्ज करवा सकते हैं। अब राज्य के निवासियों को ‘वारसैट’ के पंजीकरण के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह की सुविधाएं मिलेंगी।

ऐसे लोग जिनके पास वर्तमान में गांव में जमीन है, लेकिन वे किसी अन्य जगह पर निवास कर रहे हैं, उनके लिए तहसील स्तर पर एक विशेष काउंटर खोला जाएगा जहां वे उसी के लिए आवेदन कर सकते हैं। और अपनी जमीन को अपने नाम से पंजीकृत कर सकते हैं|उत्तराधिकार / वरासत अभियान उत्तर प्रदेश का प्रत्यक्ष लाभ जनता को दिया जायेगा|

किस तरह होगी वरासत अभियान ट्रैक स्थिति

उत्तराधिकार / वरासत अभियान उत्तर प्रदेश के तहत लोग आवेदन स्थिति को ट्रैक कर सकते हैं | लेखपाल गांवों का दौरा करेंगे और मृत लोगों के उत्तराधिकारियों का सत्यापन करेंगे और उन्हें ऑनलाइन आवेदन भरने में सहायता करेंगे। सरकार द्वारा लोगों को सामुदायिक सुविधा केंद्र (सीएफसी) से आवेदन करने की सुविधा भी दी जा रही है। अभियान के तहत, उत्तर प्रदेश के राजस्व बोर्ड की वेबसाइट पर ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं| Varasat Abhiyan के अंतर्गत किये गए आवेदनों का स्टेटस भी देखा जा सकेगा |

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना ऑनलाइन आवेदन

इस वरासत अभियान के तहत आप ऑफलाइन तथा ऑनलाइन दोनों प्रकार से आवेदन कर सकते हैं| निचे आपको दोनों प्रकार की प्रक्रिया बताई गयी है| लेकिन आपको आवेदन करने से पहले सामान्य निर्देश जरुर पढने चाहिए| Uttradhikar Abhiyan Online प्रक्रिया के लिए आप निचे देख सकते हैं| आपको Varasat Abhiyan Offline प्रक्रिया भी बताई जा रही है|

  • सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना कि ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना है
  • जिसके बाद आपके सामने इस तरह का होमं पेज ऑपन होगा जो यहा देख सकते है
  • इस पेज पर आने के बाद आपको यहा कई तरह के आप्शन दिखाई देंगे आपको यहा नामांतरण (दाखिल – ख़ारिज ) हेतु “उत्तर प्रदेश राजस्व संहिता – 2006” की “धारा 34” के अन्तर्गत ऑनलाइन आवेदन के लिए क्लिक करें
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज ऑपन हो जायगा जो इस तरह का होगा
  • यहा आने के बाद आपको अपने मोबाइल नंबर दर्ज करने है जिसके बाद OTP भेजे पर क्लिक करे आपके मोबाइल पर जो OTP आए है उन्हें आपको निचे बने बॉक्स में दर्ज करना है
  • लास्ट में आपको कैप्चा कोड दर्ज करना है इसके बाद आपको लॉग इन करे पर क्लिक करना है
  • इसके बाद आपके सामने इस तरह का फॉर्म ऑपन होगा जो यहा देख सकते है
  • इस आवेदन फॉर्म में आपको सबसे पहले अपना जनपद सेलेक्ट करना है
  • जिसके बाद आपको  निबंधन कार्यालय, रजिस्ट्री क्रमांक संख्या, रजिस्ट्री दिनांक, जानकारी दर्ज करनी है
  • इसके बाद आपको प्रदर्शित पर क्लिक करना है
  • इसके बाद आपके सामने आपकी कुछ जानकारी ऑपन हो जायगी
  • आवेदनकताग/ प्राखधकृत व्यखि अपना सम्पपणूगखववरण प्रखवष्ट करकेनामान्तरण /
  • ख़ाररज दाखिल केखलए उदघोष्णा करके” आवेदन सुरखित करें” बटन पर खललक कर
  • इस प्रकार प्रस्तुत आवेदन सीधेतहसीलदार न्यायालय मेंस्वतः दर्गहो जायेर
  • आवेदनकताग” कुल दर्गआवेदन पत्र ” खवकल्प सेखकयेर्येआवेदन खप्रंट कर सकता ह
  • स्वतः दर्गनामान्तरण / दाखिल ख़ाररज वाद को पीठासीन अखधकारी द्वारा
  • खनयमानुसार समयान्तर्गत वाद खनस्ताररत खकया जायेगा
  • इस तरह आप ऑनलाइन पंजीयन कर सकते है उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना के लिए

ऑफलाइन आवेदन उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना

अगर आप ऑनलाइन आवेदन नहीं कर सकते है तो आप ऑफलाइन आवेदन कर सकते है इसके लिए हमने यहा सम्पूर्ण जानकारी दी है जिसके माध्यम से आप ऑफलाइन आवेदन आसानी से कर सकते है तो ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आप यहा दिए गए सभी स्टेप को फॉलो करे

  • यहा आपको उत्तराधिकार / वरासत हेतु आवेदन पत्र पीडीऍफ़ पर क्लिक करना है
  • जिसके बाद आपके सामने एक PDF File ऑपन होगी जिसमे आपको दो पेज का आवेदन फॉर्म मिलेगा इस तरह का
  • सबसे पहले इस PDF को डाउनलोड करे जिसके बाद प्रिंट करे और आवेदन फॉर्म को सही सही भर ले इसके बाद आपको सभी दस्तावेज के साथ लेखापाल या तहसील में जमा करवाए
  • इसके बाद आपको कुछ नहीं आपका आवेदन हो जायगा
  • तो इस तरह आप ऑफलाइन आवेदन कर सकते है अगर आपको कुछ समझ नहीं आ रहा है तो आप अपने लेखापाल से सहायता ले सकते है और इसके लिए सरकार ने लेखपाल को आदेश भी दिए है

उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना महत्वपूर्ण दिनांक

आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दिनाक कब से कब तक इसके लिए आवेदन किया जा सकता है इसके लिए यहा हमने सरकार द्वारा जारी तारीख की लिस्ट दी है इसे जरुर पढ़े ले और तय तारीख से पहले आवेदन फॉर्म सबमिट कर दे अन्यथा बाद में सायद आप इसके आवेदन न कर पाय तो यहा देखे उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना कि लास्ट तारीख आदि दिनाक –

तिथिकिया जाने वाला कार्य/ कार्यवाही
15 दिसंबर से 30 दिसंबरराजस्व या तहसील अधिकारियों द्वारा राजस्व ग्रामों में खतौनियों को पढ़ना |
लेखपालों द्वारा ग्रामवार कार्यक्रम बनाकर सर्वे कर वरासत के लिए ऑनलाइन प्रार्थनापत्र भरवाना|
आवेदकों द्वारा ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन भरना |
31 दिसंबर से 15 जनवरीलेखपाल द्वारा दर्ज किए गए प्रकरणों या प्राप्त आवेदन पत्रों के संबंध में खुद स्थलीय और अभिलेखीय जांच के बाद विधिक उत्तराधिकारियों के नाम और विवरण के संबंध में अपनी स्पष्ट जांच आख्या पोर्टल पर अंकित करने की प्रक्रिया।
यदि वारिसान में कोई गलत विवरण अंकित है और लेखपाल उससे असहमत है तो उससे कारण का स्पष्ट उल्लेख करना होगा।
विवाद का स्पष्ट कारण अंकित करते हुए लेखपाल की ओर से आख्या राजस्व निरीक्षक को 5 कार्य दिवस में ऑनलाइन भेजी जाएगी।
सहमत होने पर लेखपाल सहमित का बट दबाकर अपनी बिंदुवार आख्या राजस्व निरीक्षक को अग्रसारित करेगा।
16 जनवरी से 31 जनवरीग्राम राजस्व समिति की खुली बैठक का डीएम प्रचार-प्रसार करना व आयोजन करना। खुली बैठक में आवेदन की ओर से भरे गए और लेखपाल की दी गई जांच आख्या का विवरण सार्वजनिक रूप से पढ़ा जाएगा। अगर कोई आपत्ति या वसीयत आदि की सूचना मिलती है तो प्राप्त सूचनाओं या आपत्तियों का पूरा विवरण अपनी ऑनलाइन आख्या में अंकित करते हुए यथानियम उत्तराधिकार संबंधि आदेश पारित करेगा। संबंधित प्रकरण में राजस्व निरीक्षक अपन स्वतः पूर्ण जांच आख्या की प्रविष्टि पोर्टल पर करने के बाद यथानियम आदेश पारित करेगा।
1 फरवरी से 15 फरवरीयह सुनिश्चित किया जाना कि बिना विवाद उत्तराधिकार का कोई भी प्रकरण दर्ज होने से शेष नहीं है। डीएम, एडीएम, एसडीएम या दूसरे जनपत स्तरीय अधिकारियों की ओर से निर्विवाद उत्तराधिकार के सभी लंबित प्रकरणों को पूरा किया जाएगा।

लेखपाल लोगइन उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना

लेखापाल उत्तराधिकार वरासत पोर्टल को कैसे लॉग इन कर सकते है इसके लिए यहा आपको स्टेप by स्टेप जानकारी दी गई जिसके माध्यम से लेखापाल पोर्टल को लॉग इन कर सकते है इसके लिए यहा दिए गए स्टेप को फॉलो करे

  • इस पेज पर आने के बाद आपको  उत्तराधिकार / वरासत आवेदन पत्र की जांच आख्या हेतु लेखपाल/राजस्व
  • निरीक्षक लॉगिन पर क्लिक करना है
  • इसके आब्द आपके सामने एक नया पेज ऑपन होगा जो इस तरह का होगा यहा देख सकते है
  • अब आपके सामने इस तरह का पेज ऑपन होगा जो यहा देख सकते है यहा आपको दो आप्शन मिलेंगे
  • राजस्व संहिता की धारा 33(1) के अन्तर्गत उत्तराधिकार की जाँच आख्या हेतु लेखपाल लॉगिन पर क्लिक करे
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज ऑपन होगा इस तरह का
  • यहा आपको सबसे पहले अपना मण्डल सेलेक्ट करना है जिसके बाद आपको जनपद सेलेक्ट करना है फिर पासवर्ड आदि दर्ज कर लेखापाल इस पोर्टल को लॉग इन कर सकते है
  • इस तरह लेखापाल उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना पोर्टल लॉग इन कर सकते है

राजस्व निरीक्षक लॉगिन उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना

इस योजना के लिए राजस्व निरीक्षक इस पोर्टल को कैसे लॉग इन कर सकते है इसके लिए भी हमने यहा सम्पूर्ण जानकारी के साथ अपडेट किया है जिसके माध्यम से राजस्व निरीक्षक उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना को लॉग इन कर यूज़ कर सकते है इसके लिए यहा दिए गए सभी स्टेप को फ़ॉलो करे

  • जैसा कि आपने ऊपर देखा लेखपाल कैसे लॉग इन करते है उसी तरह राजस्व निरीक्षक लॉग इन कर सकते है
  • सबसे पहले आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना है जिसके बाद आपके सामने होम पेज ऑपन होगा
  • जिसमे आपको भी लेखपाल की तरह उत्तराधिकार / वरासत आवेदन पत्र की जांच आख्या हेतु लेखपाल/राजस्व निरीक्षक लॉगिन क्लिक करना है जिसके बाद आपके सामने इस तरह का पेज ऑपन होगा जो यहा देख सकते है
  • यहा आपको राजस्व संहिता की धारा 33(1) के अन्तर्गत उत्तराधिकार की प्रविष्टि की जाँच एवं आदेश राजस्व निरीक्षक लॉगिन Click Here पर क्लिक करना है
  • इसके बाद आपके सामने इस तरह का नया पेज ऑपन होगा जो यहा देख सकते है
  • यहा आपको वही लेखापाल वाली जानकारी भरकर जैसे मण्डल, जनपद , तहसील यूजर ID Passwordकैप्चा आदि दर्ज कर login पर क्लिक करे आपके सामने डैशबोर्ड ऑपन हो जायगा
  • इस तरह राजस्व निरीक्षक उत्तर प्रदेश उत्तराधिकार वरासत योजना पोर्टल को लॉग इन कर सकते है

उत्तराधिकार / वरासत अभियान उत्तर प्रदेश हेल्पलाइन नंबर

यदि आपको उत्तराधिकार / वरासत अभियान उत्तर प्रदेश से सम्बंधित किसी भी प्रकार की समस्या आ रही है तो आप UP Varasat Abhiyan Helpline Number पर कॉल करके पूछ सकते हैं| इसके अलावा उत्तराधिकारी अभियान के लिए ई-मेल भी जारी की गयी है जिस पर भी आप अपनी समस्या को भेज सकते हैं| राज्य के नागरिक उत्तर प्रदेश सीएम हेल्पलाइन नंबर पर भी संपर्क कर सकते हैं| और अपनी समस्या का हल निकाल सकते हैं|
वरासत / उत्तराधिकारी अभियान हेल्पलाइन नंबर :- 0522-2620477
ई-मेल आईडी :- abhiyanvarasat@gmail.com
मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर:- 1076

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.